• पत्थलगांव से युवा कावरियों का पहला जत्था हुआ देवघर रवाना
  • विधायक डॉ. विनय की पहल लाई रंग, ओलावृष्टि से नुकसान हुए किसानों को मिला मुआवजा राशि
  • नागपुर हाल्ट से चिरमिरी के बीच नई रेल लाईन का कार्य शीघ्र प्रारम्भ कराने हेतु राज्य की 50% राशि के आबंटन हेतु महापौर ने विधानसभा अध्यक्ष को सौपा पत्र
  • एक ही कक्ष में पढ़ रहे पहली से पांचवीं तक के बच्चे,,,,हाय ये कैसा विकास-विस्तार से जानने के लिए पढ़ें-Aajkadinnews.com
  • वर्षों पुराने वृक्ष एन.एच.43 के किनारे के काटे और लगाया रिजर्व फारेस्ट तपकरा में
  • नितिन भंसाली ने सुपर 30 फ़िल्म को छत्तीसगढ़ के सिनेमाघरों में टैक्स फ्री किये जाने का मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से अनुरोध किया
  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • nasir
  • halim
  • pawan
  • add hiru collage
  • add sarhul sarjiyus
  • add safdar hansraj
  • add harish u.d.
  • add education 01

एक्सक्लूसिव: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान बिरयानी खाने नहीं दाऊद इब्राहिम से गठजोड़ करने गए थे,भाजपा के कई नेताओं का है संबंध दाऊद इब्राहिम से: अबु आसिम आजमी

एक्सक्लूसिव: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान बिरयानी खाने नहीं  दाऊद इब्राहिम से गठजोड़ करने गए थे,भाजपा के कई नेताओं का है संबंध दाऊद इब्राहिम से: अबु आसिम आजमी

मुंबई से लौटकर नई दिल्ली के आलोक मोहन की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

लोकसभा चुनाव के बाद महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव को लेकर गहमा गहमी तेज हो गई है.. गठबंधन और महागठबंधन को लेकर सियासी दलों में जोड़ तोड़ भी शुरू हो गई है, 288 विधानसभा वाली महाराष्ट्र में सबके अपने अपने दावे और वायदे हैं, तो दूसरी तरफ आरोप-प्रतारोप का दौर- दौरा भी शुरू हो गया है।

भजापा और शिवसेना में जंहा मुख्यमंत्री पद को लेकर तना-तनी का दोर है तो दूसरी तरफ भजापा शिवसेना गठबंधन की मंशा 288 विधानसभा में से 220 सीटें जितने का लक्ष्य भी है। वहीं दूसरी तरफ भजापा शिवसेना गठबंधन के सामने तमाम विपक्षी दल एक मंच पर आ कर एक साझा चुनावी गठबंधन बनाने की कवायद कर रहें हैं।

इसी बीच हमेशा विवादों में रहने वाले महाराष्ट्र समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं मुंबई के गोवंडी विधानसभा के विधायक अबू आशिम आज़मी उन तमाम गड़े मुद्दों को उभारे जा रहे हैं जो किसी समय में वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी ने उठाए थे, जैसे उन्होंने देश की जनता को आश्वासन दिया था कि उनकी पार्टी अगर सत्ता में आ गई तो माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम को भारत की सरजमीं पर बाहर से वापस लायेगें। लेकिन अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार व पार्टी इस मुद्दे पर खामोश है।

हमेशा तल्ख रवैया अपनाने वाले सपा के अबु आसिम आजमी ने aajkadinnews.com[आज का दिन] दिल्ली संपादक “आलोक मोहन” से विशेष बातचीत में कहा की केंद्र सरकार इस मामले में खामोश क्यों है..? श्री आजमी का अपना मानना है कि राष्टवाद तथा पुलवामा कांड के नाम पर भले ही लोकतांत्रिक चुनाव प्रणाली के जरिए छल कपट कर श्री मोदी कथित बहुमत के जरिए दोबारा प्रधानमंत्री बन गए हो, लेकिन उनका राष्ट्रप्रेम व राष्टवाद न केवल छलावा है बल्कि देश की जनता की आंख में धूल झोंकने वाला है।
वे कहते हैं सबको पता है कि भाजपा ने टेक्नोलॉजी का दुरुपयोग कर के चुनाव जीता है वरना चुनाव के पहले उनको कैसे पता था की उनकी पार्टी को 300 से ज्यादा लोकसभा की सीटें मिलने जा रही है अपने आप में एक विचारणीय सवाल है। अबू हासिम आज़मी का कहना है जब से देश में भाजपा सरकार आई है इस देश में न केवल आतंकवादी घटनाएं बढ़ी है बल्कि अब उन्हीं की पार्टी की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, जिन पर हिंदू आतंकवादी होने का आरोप चस्पा हो गया है वह लोकसभा की शोभा बढ़ा रही है। आजमी तो यह भी कहते हैं एक तरफ भाजपा सरकार 2014 से चुनाव पूर्व से लेकर अब तक यह बात बार-बार कहती रही है अगर सत्ता में आए तो माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम इब्राहिम को जल्दी ही भारत पकड़ कर लाएंगे लेकिन उनके सत्ता संभालने के 5 साल से ज्यादा हो गए हैं वे दुबारा फिर आ गए हैं लेकिन अभी तक पक्की तौर पर यह नहीं पता लगा पाए हैं कि आखिर दाऊद इब्राहिम कहां है। आजमी का मानना है कि भाजपा के कई नेताओं से संबंध उस माफिया सरगना से हैं लेकिन वे नाम बताने से साफ मना करते हैं वे सवाल उठाते हैं की गत वर्षो के शासनकाल में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिना किसी सूचना के -पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पोती की शादी पर बिना बुलाए क्यों गए थे वे कहते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके यहां केवल बिरयानी खाने नहीं गए थे उनका मानना है की तत्कालीन समय में पाक के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के घर में शादी की आड़ में भारत के प्रधानमंत्री ने किसी एक खास व्यक्ति से मुलाकात की थी वे कहते हैं भारत के वर्तमान गृहमंत्री अमित शाह को इस बात का खुलासा करना चाहिए कि प्रधानमंत्री वहां पर किससे मुलाकात की थी कहीं वह दाऊद इब्राहिम तो नहीं था वह इसलिए की तमाम प्रयासों के बावजूद भी वर्तमान केंद्र सरकार दाऊद इब्राहिम के नाम पर एकदम खामोश क्यों हो गई है। इस बात का भी सरकार को खुलासा करना चाहिए अगर सरकार और दाऊद के बीच में कोई संबंध नहीं है तो यह सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि दाऊद इब्राहिम को भारत सरकार पकड़कर लाये। भारत पाक के संबंध के बारे में अबू हासिम आजमी ने आलोक मोहन से बातचीत में कहा कि जब तक केंद्र में भाजपा सरकार का शासन रहेगा भारत और पाक के बीच में संबंध अच्छे नहीं हो सकते। सच तो यह है जब जब भाजपा केंद्र में आई है पाक के साथ संबंध ना केवल खराब हुए हैं बल्कि आतंकवादी घटनाएं भी भारत में बढ़ी है। वे कहते हैं पुलवामा कांड और उसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक के बहाने आम चुनाव में भले ही भाजपा ने फायदा उठा लिया हो लेकिन पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान और भारत के प्रधानमंत्री के बीच में आपसी नूरा कुश्ती चल रही है और जब तक यह लोग रहेंगे अपने अपने देशों की जनता को भरमाते रहेंगे।
वरना सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान पाकिस्तान की सेना द्वारा कैप्टन अभिमन्यु को पकड़ने के बाद बिना किसी खरोच के उन्हें छोड़ देना इस बात का साफ संकेत है। वे वर्तमान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर भी तमाम तरह के सवाल उठाते हैं और कहते हैं कि गृह मंत्रालय एक ऐसे व्यक्ति को दिया गया जिसके दामन पर भी तमाम दाग हैं सपा मुखिया का मानना है कि न्यायपालिका भी अब दबाव में हैं तथा इस देश का अल्पसंख्यक वर्ग व दलित समाज सहमा और डरा हुआ है। गोवंडी के विधायक श्री आज़मी का कहना है कि पूरे देश की जनता को पता है की अयोध्या का विवादित स्थल का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है लेकिन तमाम कट्टर हिंदूवादी संगठन अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जगह पर राम मंदिर बनाने का दबाव डाल रहे हैं वे कहते हैं कि अब तो शिवसेना भी इस मामले में कूद गई है भाजपा तथा शिवसेना में इस बात को लेकर होड़ मची हुई है कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने का श्रेय कौन ले। इस बात को लेकर दोनों दलों में गहरे मतभेद भी हो सकते हैं। जहां तक रही बात महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से संबंधित गठजोड़ बढ़ाने की, तो वे कहते हैं अगर समस्त धर्मनिरपेक्ष दल के द्वारा साझा मंच बनाकर सामूहिक तौर पर चुनाव नहीं लड़ेंगे तो तमाम भाजपा शिवसेना के विरोध करने वाले दलों का सफाया हो जाएगा,,, और इसका फायदा पूरी तौर पर भाजपा शिवसेना गठबंधन को ही मिलेगा। वे कहते हैं की कांग्रेस और राकपा को बड़ा मन बनाते हुए शीघ्र ही गठबंधन कर चुनाव में जुट जाना चाहिए तभी कुछ हद तक फायदा हो सकता है वरना लोकसभा चुनाव परिणाम की तरह विधानसभा चुनाव में भी वही हाल होगा..?

About vidyanand Takur

Leave a reply translated

  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • Samwad 04
  • samwad 03
  • samwad 02
  • samwad 01
  • education 04
  • education 03
  • education 02
  • add seven