• एक्सक्लूसिव: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान बिरयानी खाने नहीं दाऊद इब्राहिम से गठजोड़ करने गए थे,भाजपा के कई नेताओं का है संबंध दाऊद इब्राहिम से: अबु आसिम आजमी
  • पूर्ण चन्द्र पाढ़ी कोको के नेतृत्व में कल दिल्ली में जमा होंगे छत्तीसगढ़ के युवा कांग्रेसी
  • राहुल गांधी का मजाक उड़ाने का मामला: हरीश लकमा और कोको पाढ़ी के बीच हुई चैटिंग विवादों में, राहुल गांधी लईका है,कांग्रेस को बर्बाद कर दूंगा आदि शब्दों से मचा बवाल
  • हरीश लखमा और कोको पाढ़ी के बीच हुई चैटिंग विवादों में, राहुल गांधी को लेकर किया टिप्पणी से मचा बवाल
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का मेडिकल बुलेटिन जारी,अगला 36 घंटे काफी अहम्
  • बैकुंठपुर: चोरी के आरोपी समान सहित धराये

जिले में 1 हजार से अधिक घरो में होगा गायत्री महायज्ञ

जिले में 1 हजार से अधिक घरो में होगा गायत्री महायज्ञ
गृहे गृहे गायत्री यज्ञ अभियान के अंतर्गत होगा कार्यक्रम
गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ अभियान के अंतर्गत 2 जून 2019 रविवार को अखिल विश्व गायत्री परिवार राष्ट्र की कुंडलिनी जाग्रत करने और जन जन को यज्ञ और  गायत्री की सनातन परम्परा से जोड़ने के लिए एक अभूतपूर्व प्रयोग  करने जा रहा है।
इसके अंतर्गत पूरे भारत मे 2,40,000 घरों  में 2 जून को एक साथ 8 बजे से 12 बजे के मध्य गायत्री यज्ञ होगा।  इसी तारतम्य में जशपुर जिले में भी 1 हजार से अधिक घरो में यज्ञ सम्पन्न कराने की योजना बनाई गई है। कर्यक्रम को सफल बनाने के लिए जिले से लगभग 350 कार्यकर्ताओ यज्ञ सम्पन्न कराएंगे। जंहा जंहा यज्ञ होगा उसकी सूची तैयार कर ली गयी है। 
 उक्त आयोजन को सफल बनाने के लिए पूरे जिले से कार्यकर्ताओं की गायत्री शक्तिपीठ जशपुर में जिला स्तरीय बैठक रखी गयी थी जिसमे प्रांतीय प्रतिनिधि सम्बेश्वर साहू एवं महेंद्र नेताम ने कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु मार्गदर्शन दिए। श्री नेताम ने कहा कि यज्ञ हमारी सनातन संस्कृति है, यज्ञ से परोपकार ,लोक सेवा की शिक्षा मिलती है, पर्यावरण का शोधन होता है तथा गायत्री से सदबुद्धि की प्राप्ति होती है। उन्होंने कहा देव संस्कृति के निर्माता यज्ञ पिता गायत्री माता। गायत्री परिवार के जशपुर जिला समन्वयक कांशीराम श्रीवास ने  जिले के सभी श्रद्धाओ को उक्त महाआयोजन को सफल बनाने हेतु सामूहिक रूप से प्रयास करने हेतु आव्हान किया। 
 महाअभियान में श्रद्धालु इस प्रकार ले सकते है भाग:-
1- अपने घर मे किसी साधक से गायत्री यज्ञ करा कर के।
2- स्वयं परिवार सहित गायत्री यज्ञ करके।
3 -जिन्हें पूरा कर्मकांड नही आता वो मात्र लकड़ी या गाय के गोबर के उपले से या सूखे नारियल के टुकड़े से किसी मिट्टी के कसोरे या तसले में जला ले और जलती हुई अग्नि में हवन सामग्री से 24 बार गायत्री मंत्र की आहुति दे।
4 -जो यज्ञ न कर सके वो इसी समय पर 24 दीपक जलाकर परिवार के साथ बैठ कर 24 गायत्री मंत्र की आहुति देकर इस प्रयोग का हिस्सा बन सकते है।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated