• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

हिंदुओं पर अपमानजनक टिप्पणी करके फंसे पाक के मंत्री-इस्तीफा देने का आदेश

लाहौर। हिंदू विरोधी टिप्पणी के कारण चौतरफा आलोचनाओं से घिरे पंजाब प्रांत के सूचना एवं संस्कृति मंत्री फैयाजुल हसन चौहान को माफी मांग लेने पर भी राहत नहीं मिली है और मुख्यमंत्री उस्मान बुज्दर ने उन्हें इस्तीफा देने को कहा है। सूत्रों ने बताया कि बुज्दर ने मंगलवार को चौहान को मुख्यमंत्री आवास में तलब किया और उन्हें इस्तीफा देने को कहा। उन्होंने चौहान से हिंदू विरोधी टिप्पणी को लेकर स्पष्टीकरण भी मांगा। उन्होंने कहा कि चौहान के खिलाफ पहले से भी शिकायतें रही हैं जिनके लिये उन्हें चेतावनी भी दी गयी थी। इससे पहले चौहान ने हिंदू विरोधी आपत्तिजनक टिप्पणियों के लिए चौतरफा आलोचना झेलने के बाद माफी मांग ली। उन्होंने कहा, मैं भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भारतीय सशस्त्र बल और वहां की मीडिया को संबोधित कर रहा था, पाकिस्तान के हिंदू समुदाय को नहीं। अगर मेरी किसी टिप्पणी से पाकिस्तान के हिंदू समुदाय को दुख पहुंचा है तो मैं माफी मांगता हूं।
उन्होंने कहा, मैं अपने मुल्क की ओर गंदी नजर से देखने वाले हर शख्स को मुंहतोड़ जवाब दूंगा। मेरे खून की हर बूंद मेरे मुल्क के लिए है। चौहान ने 24 फरवरी को एक जनसभा में हिंदू विरोधी टिप्पणियां की थी। इन टिप्पणियों के लिए उन्हें मानवाधिकार मंत्री शिरीन माजरी, वित्त मंत्री असद उमर, प्रधानमंत्री के विशेष सहायक नईमुल हक, सत्तारूढ़ दल पाकिस्तान तहरीक- ए-इंसाफ (पीटीआई) समेत कई दलों और नेताओं की कड़ी आलोचना झेलनी पड़ रही थी। यही नहीं माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर भी उनके खिलाफ हैशटैगसैकफैयाजचौहान से अभियान चलाया गया।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Newsletter