नाबालिग ने पॉर्न देखकर बच्ची से किया सेक्स, फिर हत्या

नाबालिग ने पॉर्न देखकर बच्ची से किया सेक्स, फिर हत्या

क्राइम शो देख लाश लगाई ठिकाने
मुंबई- मुंबई में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां दो दिन पहले मिली दस साल की बच्ची की हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा किया है। पुलिस का कहना है कि यह हत्या बच्ची के ही 15 वर्षीय दोस्त ने की थी। वह अपने ममी-पापा के मोबाइल पर पॉर्न देखता था। उसने बच्ची को मारने से पहले मोबाइल पर पॉर्न देखकर उसके साथ सेक्स किया और फिर राज खुलने के डर से उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। बच्ची को मारने के बाद उसने अपने दोस्त की मदद से उसकी लाश नाले में फेंक दी।पुलिस ने बताया कि दो दिन सफेद पुल के नाले में एक ट्रॉली बैग के अंदर दस साल की बच्ची की लाश मिली थी। पुलिस ने घटना की जांच के बाद एक पंद्रह वर्षीय लडक़े और उसके दोस्त को गिरफ्तार किया है। दोनों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने लाश भरकर यह ट्रॉली बैग साकीनाका के नाले में फेंका था।

ममी-पापा के मोबाइल पर गेम के बहाने देखता था पॉर्न
पुलिस पूछताछ में नाबालिग ने बताया कि वह अपने ममी-पापा का मोबाइल लेकर गेम खेलता था। एक दिन गेम खेलने के दौरान एक पॉप-अप्स आया। गलती से वह क्लिक हो गया तो उसमें पॉर्न विडियो चलने लगे। उसने यह विडियो देखा तो उसने इंट्रस्ट आने लगा। वह फिर रोज मोबाइल गेम के बहाने पॉर्न विडियो देखने लगा। उसे विडियो देखने के बाद सेक्स करने की इच्छा हुई।

पॉर्न देखकर किया सेक्स, डरकर दबाया गला
पुलिस ने बताया कि दस वर्षीय बच्ची और आरोपी पहले एक ही इलाके में रहते थे। गुरुवार को बच्ची शाम को साढ़े पांच बजे अपने ट्यूशन से लौट रही थी। आरोपी उसके पास गया और अपने साथ घर ले आया। यहां उसने मोबाइल पर पॉर्न देखा और बच्ची के साथ सेक्स किया। बच्ची ने इसका विरोध किया तो वह डर गया और उसने बच्ची का गला दबाकर उसे मार दिया।

दोस्त को फोन करके बुलाया
बच्ची को मारने के बाद उसने उसकी शर्ट निकाली और उसके स्कूल बैग में रख दी। उसके बाद अपने घर के ट्रॉली बैग में बच्ची की लाश रखी और फिर अपने एक दोस्त को फोन करके बुलाया। वह बच्ची का स्कूल बैग लेकर पास के सार्वजनिक शौचालय पहुंचा और वहां उसे फेंक दिया।

ट्रॉली बैग और स्कूल बैग अलग-अलग लोकेशन पर फेंका
स्कूल बैग फेंकने के बाद वह पास घर आया और अपने दोस्त के साथ उसकी स्कूटर पर ट्रॉली बैग लेकर 90 फीट रोड के पास नाले के किनारे पहुंचा। यहां उसने ट्रॉली बैग नाले में फेंक दिया। पुलिस ने जो सीसीटीवी फुटेज देखे तो उसमें साफ दिखा कि दोनों नाबालिग स्कूटर पर ट्रॉली बैग लेकर जा रहे हैं।

पुलिस से बचने के लिए क्राइम शो देखकर बनाया प्लान
आरोपियों ने अपना शातिर दिमाग चलाते हुए इस घटना को किडनैपिंग के बाद हत्या का मामला दिखाने के लिए एक प्लान बनाया। उन्होंने एक तीसरे लडक़े को अपने प्लान में शामिल किया और उससे बच्ची के घर पर फोन करवाया। लडक़े ने फोन करके पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी। आरोपियों ने फोन करने वाले लडक़े से कहा कि एक फोन करने के बदले उसे 20,000 रुपये मिलेंगे। इस फोन कॉल के बाद उन्होंने अपना सिम कार्ड तोडक़र फेंक दिया। आरोपियों ने बताया कि बच्ची के हत्या के बाद लाश ठिकाने लगाने और बचने का पूरा प्लान उन्होंने क्राइम शो देखकर बनाया।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *