• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

राहुल ने मोदी को कहा कीजिये दुश्मन पर हमला..,

राहुल ने मोदी को कहा कीजिये दुश्मन पर हमला..,

नितिन राजीव सिन्हा//

छत्तीसगढ़ के बस्तर में राहुल गांधी ने भीड़ भरी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि पुलवामा हमले पर दुश्मन पर हमला कीजिए विपक्ष आपके साथ है..,
विपक्ष के ललकार पर देश को याद है कि १५ अगस्त २०१६ को नरेंद्र मोदी ने लाल क़िले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि बलूचिस्तान के लोग उन्हें उनकी पाकिस्तान से आज़ादी का मुद्दा उठाने पर धन्यवाद कह रहे हैं लेकिन पुलवामा हमले के बाद लोग पूछ रहे है बलूचिस्तान के मुद्दे को मोदी सरकार बाद के वर्षों में ज़िंदा क्यों नही रख सकी..,
देश को याद है २०१६ में ही सर्वदलीय बैठक में मोदी ने गिलगित,बालटीस्तान और बलूचिस्तान के पाकिस्तान से आज़ादी के मुद्दे पर बात की थी पर,वाहवाही लूट कर वह बात हवा हो गई ५ साल दुनिया की सैर मोदी करते रहे लेकिन कहीं किसी मंच पर इन बातों का ज़िक्र नही हुआ और नहीं यह ढंग का मुद्दा ही बन पाया,यह नरेंद्र मोदी सरकार की थे बड़ी कूटनीतिक विफलता है..,
अब,मोदी सेना को खुली छूट देने की बात कर रहे हैं जिस पर प्रश्न यह उठता है कि क्या राजनीतिक नेतृत्व देश में समाप्त हो गया है जो कि तानाशाह के अन्दाज़ में फ़रमान जारी किये जा रहे हैं..,जिस पर लिखना होगा कि-

अजब जुनूँ है
बारूद भरी
बस्तियाँ कई
हैं हुज़ूर..,
वो,राह से
गुज़र कर
धमाके कर
गये आपने
रोका नहीं
सो,वो अपना
काम
कर गये
आप @५६”

के सीने में
हमें राम
दिखाते रहे
पर,राम नाम
के रास्ते जवान
हमारे बढ़ते गये..,
शिकस्त खा
के हुज़ूर
पैग़ाम
जल जले का
दे गये..,ज़मीं
हमारी है शायद
साहब यह बात
भूल गये..,

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated

Newsletter