• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

कैंसर की सामान्य जांच भी समय पर कराएं : एसीसीएफ

कैंसर की सामान्य जांच भी समय पर कराएं : एसीसीएफ

विश्व कैंसर दिवस सप्ताह : मोरीगांव में कैंसर जागरूकता कार्यक्रम

गुवाहाटी / मोरिगांव। श्रीमंत शंकरदेव संघ का 88 वां वार्षिक सम्मेलन आज असम के मोरीगांव में शुरू हुआ। इस चार दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में असम कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) द्वारा मुंह, स्तन सहित सभी तरह के कैंसर के बारे में जागरूकता के लिए विभिन्न प्रकार के आयेाजन किये गए।इसके साथ ही कैंसर की समय रहते स्क्रीनिंग के बारे में भी आम लोगों को अवेयर किया गया।

श्मंत शंकरदेव संघ का 88 वां वार्षिकसम्मेलन में कैंसर केयर फाउंडेशन(एसीसीएफ) की और से सुनिश्चिित किया गया कि 30 साल की उम्र के बाद सामान्य कैंसर की जांच करांए और अन्य लेागों को भी इसके बारे में बताएं। इस दौरान एसीसीएफ की टीम,एनएसएस के युवाओं ने सम्मेलन में आनेवाले लेागों को तंबाकू के सेवन के दुष्प्रभाव के बारे में बताया और उनसे जानकारी भी ली।इस अवसर पर असम कैंसर केयर फाउंडेशन(एसीसीएफ) के सीईओ वारा प्रसाद ने कहा:- कैंसर ने आज व्यापक रूप ले लिया है और असम में हर साल होने वाले नए कैंसर के मामलों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। इसका सबसे महत्वपूर्ण कारण यंहा पर वयस्क लेागों के बीच तंबाकू की अधिक खपत और स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों में आम कैंसर की जांच के लिए पर्याप्त जागरूकता की कमी है। सम्मेलन स्थल को पूरी तरह से तंबाकू मुक्त क्षेत्र भी बनाया गया ताकि आम जनता में सकारात्मक संदेश जा सके।

उन्होने बताया कि मोरीगांव में 6 से 9 फरवरी तक चलने वाले 88 वें वार्षिक सम्मेलन के माध्यम से एसीसीएफ का उद्देश्य उन लोगों तक पहुंचना है जो सम्मेलन भाग लेंगे और विभिन्न स्थानीय हितधारकों के साथ सहयोग करके उन्हें जागरूक करेंगे। आज मोरी गांव कॉलेज से राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों नेपंफलेट वितरण में मदद की। स्वयं सेवकों ने क्षेत्र में तंबाकू नियंत्रण को लागू करने के लिए पुलिस अधिकारी का साथ दिया। इस दौरान 5000 युवाओं की एक सभा में विशेषज्ञों ने तंबाकू नियंत्रण और मुंह के कैंसर के बारे में जानकारी दी।
यहां उल्लेखनीय है कि असम में 48.2 प्रतिशत वयस्क लोग तंबाकू उत्पादों का सेवन करते हैं जिसके कारण हर साल 32000 कैंसर के नए मामलों का पता चलता है। इस सम्मेलन के माध्यम से तंबाकू विरोधी कार्यक्रम 30 लाख स्थानीय लोगों तक पहुंचेगा, जिसमें एनएसए सस्वयंसेवकों व युवा समूह तंबाकू और कैंसर के प्रति जागरूकता को बढ़ावा देने में मदद कर रहें है।

सामान्य कैंसर के लिए तंबाकू नियंत्रण और निवारक उपायों के संदेश को पत्र, बैनर,होर्डिंग्स, युवा के साथ सीधी बात, झांकी ( स्वास्थ्य सेवा के 3 डी मॉडल, स्कूलों और सार्वजनिक स्थानों पर केाटपा, एसीसीएफ के जागरूकता अभियान के फोटो कोलॉज ) केरूप में प्रस्तुत किया जा

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated

Newsletter