• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

‘ओमेर्टा’ को लेकर चर्चा में हंसल

‘ओमेर्टा’ को लेकर चर्चा में हंसल

समाज से जुड़े जटिल और विवादास्पद विषयों को पेश करने में निर्देशक हंसल मेहता से सीखे। उन्होंने दस कहानियां, शाहिद, सिटीलाइट्स, अलीगढ़ और बोस जैसी फिल्मों से समाज के उन मुद्दों को उठाया जिन पर बात करने से भी लोग कतराते हैं। आजकल वह अपनी नई फिल्म ‘ओमेर्टा’ को लेकर चर्चा में हैं। यह फिल्म आतंकवादी उमर सईद की जिंदगी पर आधारित है।

‘ओमेर्टा’ का मतलब
‘ओमेर्टा’ का मतलब होता है, ‘कोड ऑफ साइलेंस’ जैसे कई बार हम सच्चाई का सामना करने से घबराते हैं। हम भारत और पाकिस्तान में अमन चाहते हैं पर यह कैसे मुमकिन होगा। जब दोनों देशों में तनाब बना रहता है। आतंकी और अपराधी छिपे रहते हैं। हंसल का कहना है कि अपनी फिल्म के लिए भी मुझे धमकियों का सामना करना पड़ रहा है। जैसे कई बार जान से मारने की धमकी आ जाती है। मैं धमकियों पर ध्यान नहीं देता। ‘शाहिद’ के बाद भी मुझे धमकियां मिली थीं। मैंने उनसे यही कहा कि वह मैं ही था, जिसने ‘शाहिद’ बनाई और अब मैं उमर सईद की जिंदगी पर फिल्म बना रहा हूं। मुझे अपनी कहानी कहनी है क्योंकि इतिहास जिस तरह लिखा जाएगा, मुझे उस पर भरोसा नहीं है। इतिहास तो सरकारी तौर पर लिखा जाएगा, मगर मेरी फिल्मों के जरिए आनेवाली पीढ़ी कम से कम आज के दौर की सच्चाई तो जान पाएगी।
ओमेर्टा में पाक के हालात पेश करना चुनौतीपूर्ण था। इसमें पाकिस्तान के माहौल को दर्शाने के लिए पंजाब, दिल्ली और अन्य 3-4 जगहों पर शूटिंग की। एक खलनायक की कहानी पर फिल्म बनाना बहुत मुश्किल था। हीरो की कहानी का एक इमोशनल ग्राफ होता है मगर खलनायक के ग्राफ को दिखाना मुश्किल था, क्योंकि हमारा नायक ही खलनायक है। आप फिल्म देखने के बाद इस किरदार से नफरत करने लगेंगे।

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated

Newsletter