• पत्थलगांव से युवा कावरियों का पहला जत्था हुआ देवघर रवाना
  • विधायक डॉ. विनय की पहल लाई रंग, ओलावृष्टि से नुकसान हुए किसानों को मिला मुआवजा राशि
  • नागपुर हाल्ट से चिरमिरी के बीच नई रेल लाईन का कार्य शीघ्र प्रारम्भ कराने हेतु राज्य की 50% राशि के आबंटन हेतु महापौर ने विधानसभा अध्यक्ष को सौपा पत्र
  • एक ही कक्ष में पढ़ रहे पहली से पांचवीं तक के बच्चे,,,,हाय ये कैसा विकास-विस्तार से जानने के लिए पढ़ें-Aajkadinnews.com
  • वर्षों पुराने वृक्ष एन.एच.43 के किनारे के काटे और लगाया रिजर्व फारेस्ट तपकरा में
  • नितिन भंसाली ने सुपर 30 फ़िल्म को छत्तीसगढ़ के सिनेमाघरों में टैक्स फ्री किये जाने का मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से अनुरोध किया
  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • nasir
  • halim
  • pawan
  • add hiru collage
  • add sarhul sarjiyus
  • add safdar hansraj
  • add harish u.d.
  • add education 01

लिपिक तेरी व्यथा: अधिकारी सारे बाबू से ही, एैश सदा करते ही आए। आज उसी का विरोध किये तो,लिपिक कामचोर कहलाए ।।

लिपिक तेरी व्यथा: अधिकारी सारे बाबू से ही, एैश सदा करते ही आए। आज उसी का विरोध किये तो,लिपिक कामचोर कहलाए ।।

लिपिक तेरी व्यथा

बाबू थे कभी चपरासी हो गए ।
शासन निति से फांसी हो गए ।
सारे अधिकारी कभी ढुंढते थे हमको ,
शायद आज सबके लिए बिमारी हो गए ।।

चमचागिरी की हद ही कहिए ,
नीचे वाले अधिकारी हो गए ।
कल अकेले महकमा संभालने वाले ,
आज बाबू से मदारी हो गए ।।

जब वसूली का अवसर आता है ,
तब बाबू प्रिय हो जाता है ।
काम निकलते ही अधिकारी के ,
चाय में मक्खी बन जाता है ।।

सबका वेतन आकाश है छुता ,
अपना गर्त में जाता है ।
बस अपना वेतन फोकट का है ,
बाकि मेहनत से पाता है ।।

अधिकारी सारे बाबू से ही ,
एैश सदा करते ही आए ।
आज उसी का विरोध किये तो ,
लिपिक कामचोर कहलाए ।।

वाह रे शासन हद है होती ,
कुछ अकल से काम करो ।
चमचागिरी छोड़ हकीकत ,
लिपिक दर्द संज्ञान करो ।।

सबसे ज्यादा कामचोर है ,
अधिकारी उसे ही भाता है ।
जिसको कुछ भी काम न आता ,
वही प्रमोशन पाता है ।।

यह कैसा इंसाफ चला है ,
देश में होता भक्षण है ।
सामान्य का अनुभव भाड़ में जाए ,
प्रमोशन में भी आरक्षण है ।।

हर सरकार की अत्याचारी ,
बस कुर्सी उसे बचाना है ।
प्रजा की आशा भाड़ में जाए ,
आरक्षण विधेयक लाना है ।।

मेहनत वाले ताक रहे हैं ,
आस लगाए उम्मीदों से ।
वेतन की कब मिटेगी दुरी ,
कब मिलेगी न्याय फकीरों से ।।

बरसों का कचरा थोप रहे हैं ,
हर बाबू बना बस स्वीपर है ।
बस फाईल व्यवस्था चार्ज है पाता ,
अधिकारी के नजर में जोकर है ।।

वाह रे भयानक अफसर शाही ,
जितना कोसें कम है सही ।
ठकुरसुहाती करने वाले ,
पाएं प्रतिष्ठा चाहे टन्न ही रही ।।

अंधे बहरों की नगरी में ,
कब बाबू को न्याय मिलेगा ।
सबका काम बनाने वाले ,
शांत चित्त का हाय मिलेगा ।।

चांपा से भाई ए.जी. खान

About vidyanand Takur

Leave a reply translated

  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • Samwad 04
  • samwad 03
  • samwad 02
  • samwad 01
  • education 04
  • education 03
  • education 02
  • add seven