• खबर का असर-एक माह से अँधेरे में जीवन काट रहे लोगों की मिली रौशनी,ग्रामीणों ने कहा धन्यवाद आज का दिन
  • कर्नाटका बैंक ने बालाजी मेट्रो हास्पिटल को भेंट की एंबुलेंस,रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक ने पूजा अर्चना कर किया लोकार्पण
  • अखिल छ ग चौहान कल्याण समिति के तत्वाधान में युवा जागृति सामाजिक जन चेतना मासिक सम्मलेन संपन्न
  • आई जी दुर्ग रेंज की पहल रंग लाने लगी,,,वीडियो कॉल द्वारा पुलिस को सुझाव आने लगा
  • महापौर रेड्डी ने डीएव्ही मुख्यमंत्री पब्लिक स्कूल चिरमिरी में खोलने किया मॉंग
  • हल्दीबाड़ी ग्रामीण बैंक के पास आज लगेगा रोजगार मेला

भूपेश बघेल ने भेदा मोदी का चक्रव्यूह..,

भूपेश बघेल ने भेदा मोदी का चक्रव्यूह..,

“नितिन राजीव सिन्हा”

छत्तीसगढ़ के मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने देश की राजनीति में चुनाव २०१९ में बड़ी भूमिका निभाई है उन्होंने मोदी की बोलती बंद की हुई है इसलिये देखा जा रहा है कि जिस चुनाव का शंखनाद रॉबर्ट वाडरा के नाम से करने की तैयारी मोदी शाह कर रहे थे उनकी जोड़ी बे ज़ुबाँ हुई है हताशा का आलम यह है कि वह बेलगाम हुई है मुद्दा वाडरा न बन पाने के पीछे भूपेश बघेल की आक्रामक और सोची समझी रणनीति है,जो कारगर रही..,
छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्य मंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ आर्थिक अनियमितताओं के ढेरों मामले भाजपा शासन काल के हैं और दीगर मामले भी हैं जिनकी शिकायतें भूपेश के पास तब से थी जब वो सरकार में नहीं थे सरकार बनते ही उन्होंने कार्यवाही शुरू की एफआईआर हुए और रमन सिंह ने अपने दामाद को योजनाबद्ध ढंग से कहीं छुपा दिया,वे तीन महीना फ़रारी काटने के बाद अग्रिम ज़मानत मिलने के बाद परसों ही थाने पहुँच कर अपना बयान दर्ज करवाये हैं..,
ध्यान रहे दिल्ली में ईडी रॉबर्ट वाडरा से पूछताछ कर रही थी और इसे राजनीति हवा दे रही थी सूत्रों का दावा है कि भाजपा की तैयारी थी कि प्रियंका जैसे ही मैदान में आयें “रॉबर्ट बम” फोड़ा जाये पर,पुनीत गुप्ता पर शिकंजा कसता देख मोदी हकलाने लगे जब कुछ न सूझा तो दिवंगत राजीव गांधी पर मर्शिया गान करने लगे लेकिन सवाल तो यह है कि क्या बोफ़ोर्स किसी कोर्ट में टिक पाया..? जिस बिला पर मोदी उन पर आरोप लगा रहे हैं और अपनी भद्द पिटवा रहे हैं..,वहीं रॉबर्ट पर हो रही बे बुनियाद कार्यवाही के मायने क्या थे यह तथ्य देश के सामने आ गया..,
नि संदेह भूपेश बघेल गेम चेंजर बन कर उभरे हैं भाजपा की पूरी लीडरशीप उनकी वजह से प्रलाप करती हुई दिख रही है जबकि कांग्रेस अपने मुद्दों पर स्थिर बनी हुई है भूपेश के प्रताप पर दिनकर की पंक्तियाँ खरी उतरती हैं कि-
तेजस्वी,सम्मान
खोजते नहीं
गोत्र बतला
के पाते हैं
जग में
प्रशस्ति अपना
करतब दिखला
के,हीन मूल
की ओर देख
जग ग़लत कहे
या ठीक..वीर
खींच कर ही
रहते हैं इतिहास
में लीक..।

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated