• खबर का असर-एक माह से अँधेरे में जीवन काट रहे लोगों की मिली रौशनी,ग्रामीणों ने कहा धन्यवाद आज का दिन
  • कर्नाटका बैंक ने बालाजी मेट्रो हास्पिटल को भेंट की एंबुलेंस,रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक ने पूजा अर्चना कर किया लोकार्पण
  • अखिल छ ग चौहान कल्याण समिति के तत्वाधान में युवा जागृति सामाजिक जन चेतना मासिक सम्मलेन संपन्न
  • आई जी दुर्ग रेंज की पहल रंग लाने लगी,,,वीडियो कॉल द्वारा पुलिस को सुझाव आने लगा
  • महापौर रेड्डी ने डीएव्ही मुख्यमंत्री पब्लिक स्कूल चिरमिरी में खोलने किया मॉंग
  • हल्दीबाड़ी ग्रामीण बैंक के पास आज लगेगा रोजगार मेला

अपनी पलकों में अश्कों को छुपा कर रखना,

अपनी पलकों में अश्कों को छुपा कर रखना,

नहीं तो इस जहान में सैलाब आयेगा!

गमों से ना घबरा जरा सब्र रखना,

तेरे आंसुओं का खुदा के करम से हिसाब आएगा!

इंसानियत का दुश्मन इंसान बन गया है,

सोचा न था ज़माना यू खराब आएगा!

हाले दिल तुझसे ना कहे तो किस से कहें बेबस,

मेरी दीवानगी से तेरी महफिल में सबाब आएगा!

दौरे जफा में शम्मए वफा जलाए रखना,

इसी के दम पर एक रोज इंकलाब आएगा!…

अप्रकाशित (बेबस)

About Vidyanand Thakur

Leave a reply translated