• कांग्रेस नेता नितिन भंसाली के शिकायत पर आबकारी विभाग में करोड़ों रुपयों के भ्रष्टाचार करने वाले समुद्र सिंह के ठिकानों पर तड़के सुबह ईओडब्ल्यू की छापेमारी
  • काशी तुम मंदिरों में होती थी कभी, सड़कों पर हो.. क्या देवता स्वर्ग लोक से लौटे हैं..!!!
  • भूपेश बघेल सरकार के 60 दिन के काम के आगे नही चली
  • श्रीलंका ब्लास्ट आई.एस.आई.एस. का अक्षम्य अपराध – रिजवी
  • पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता डीकेएस अस्पताल घोटाला और ओएसडी अरूण बिसेन की पत्नि का वेतन घोटाला उजागर करने पर मुझ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है : विकास तिवारी
  • जबलपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तनखा के पक्ष में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लेंगे सभायें

वन विभाग के कर्मचारियों द्वारा आदिवासियों के घर से जबरन तीर-कमान जब्त करने पर विरोध

वन विभाग के कर्मचारियों द्वारा आदिवासियों के घर से जबरन तीर-कमान जब्त करने पर विरोध

कल शाम ग्राम -चरौदा जिला- महासमुंद, राज्य -छत्तीसगढ़ में तीरकमान विषय पर वास्तविकता जानने पंहुचा जल्द ही इस विषय पर काम किया जायेगा साथ में मनराखन ठाकुर(अध्यक्ष – सर्वआदिवासी समाज),स्याम नेताम (सचिव- सर्व आदिवासी समाज) भी थे गांव में बैठाक एवं पीड़ित परिवार से पूछे जाने पर आस- पास के लोगो ने बताया कि देवलाल कमार प्रिमिटिव ट्राइब (तीर चलाने वाला) बहुत ही सजन व्यक्ति है उसका किसी के साथ भी कोई लड़ाई झगडा भी नही है लोगो का कहना है देवलाल को ज्यादा गाली गलौच किया गया था इसलिए ऐसा हुआ और बैठक में यह भी पता चला है कि वनरक्षक पहले से ही इनकी गतिविधि ठीक नही थी उसकी जहाँ – जहाँ पोस्टिंग होती है वहाँ – वहाँ आदिवासियों एवं ग्राम वासियो से उसका झगड़ा हुआ है और अब वन विभाग से लेकर सभी सम्बंधित सरकारी अमला आदिवासियों के खिलाफ हो गया है और घर -घर जा कर तीर धनुष जब्ती बनाना शुरू कर दिया है आदिवासी अब इस सोच में पड़ गए है कि इसका मुहतोड़ जवाब कैसे दिया जाय, क्यों की जंगल विभाग की यह कार्यवाही कई प्रशन खड़ा करता है

1. ये दो लोगो का विवाद है फिर सब के घर छापा क्यू

2. क्या यह नया तरीका है आदिवासियों को विस्थापित करने का क्योंकि टाईगर रिजर्व के नाम से मैनपुर सीता नदी के आस-पास गांव के आदिवासियों को भी जंगल से निकालने की कार्यवाही प्रक्रिया चल रहा है

किन्तु इस प्रकार से साजिश को नही सहा जायेगा और अब जंगल के पूर्ण अधिकार का नीति बना कर मांग किया जायेगा एवं कानूनी लड़ाई भी लड़ा जायेगा यह लड़ाई केवल एक तिरधनुस का नही वरन संपूर्ण जंगल का है ,आदिवासी जीवन शैली का है ।

जय गुण्डा धुर

उपरोक्त जानकारी आदिवासी छात्र संगठन के अध्यक्ष योगेश ठाकुर द्वारा दी गई।

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated

Translate »