• कांग्रेस नेता नितिन भंसाली के शिकायत पर आबकारी विभाग में करोड़ों रुपयों के भ्रष्टाचार करने वाले समुद्र सिंह के ठिकानों पर तड़के सुबह ईओडब्ल्यू की छापेमारी
  • काशी तुम मंदिरों में होती थी कभी, सड़कों पर हो.. क्या देवता स्वर्ग लोक से लौटे हैं..!!!
  • भूपेश बघेल सरकार के 60 दिन के काम के आगे नही चली
  • श्रीलंका ब्लास्ट आई.एस.आई.एस. का अक्षम्य अपराध – रिजवी
  • पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता डीकेएस अस्पताल घोटाला और ओएसडी अरूण बिसेन की पत्नि का वेतन घोटाला उजागर करने पर मुझ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है : विकास तिवारी
  • जबलपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तनखा के पक्ष में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लेंगे सभायें

न्याय के लिए दर-दर भटकने को मजबूर पीड़ित पैंकरा परिवार ,, फांसी में लटके मिले जवान बेटे की हत्या की आशंका,रिपोर्ट के बाद भी लैलूंगा पुलिस की कार्रवाही सुस्त,पीड़ित परिवार एस पी के पास पहुंचा

न्याय के लिए दर-दर भटकने को मजबूर पीड़ित पैंकरा परिवार ,, फांसी में लटके मिले जवान बेटे की हत्या की आशंका,रिपोर्ट के बाद भी लैलूंगा पुलिस की कार्रवाही सुस्त,पीड़ित परिवार एस पी के पास पहुंचा

*नितिन सिन्हा कीसे

रायगढ़;- जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आज भी दूसरे दिनों की तरह आम लोग अपनी-अपनी फरियादें लेकर आये हुए थे। इस दौरान हमारी नजर बेहद दुखी और व्यथित आदिवासी परिवार पर पड़ी। पूछताछ पर पता चला कि वो करीब 90 किमी की दूरी तय करके मुख्यालय रायगढ़ पहुंचा है। पीड़ित परिवार के सांथ महिला सदश्य भी जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर कड़ी धूप में खड़ी मिली।

उन्होंने बताया कि वे वनग्राम किलकिला थाना लैलूंगा के रहने वाले है। प्रेम-प्रसंग में उलझे उसके मृत जवान बेटे की कथित हत्या के मामले में लैलूंगा पुलिस की सुस्त जांच और दोषियों के विरुद्ध कार्रवाही की मांग को लेकर वो पुलिस अधीक्षक के पास आये है। घटना के सम्बंध में पीड़ित परिवार के मुखिया राजकुमार पैंकरा ने प्रेस को बताया कि उसका 19 वर्षीय मृत बेटा प्रकाश पैंकरा गांव की ही एक लड़की भानुमति पैकरा(परिवर्तित नाम)पिता रामसिंह पैंकरा से प्रेम करता था। दोनो ही करीब-करीब हम उम्र थे,घटना के तीन चार दिन पहले 6 मार्च 2019 को लड़की अपनी मर्जी से उनके घर आ गई। जिसकी जानकारी लड़की के दबंग परिजनों को मिल गई।पीड़ित के बताए अनुसार इस बात से नाराज लड़की के पिता रामसिंह,चाचा करम सिंह और भाई गांधी,कार्तिक पैकरा गांव में मीटिंग बुला कर लड़की भानुमती को समझाइस दी और घर वापस चलने को कहा।,वह उनकी बात नही मानी तो उन्होंने वही उन दोनों से मारपीट की। इस बात से नाराज लड़की के परिजनों ने उसके दोबारा लड़की के घर के बाहर दिनांक 11 मार्च 2019 को बैठक में मृत बेटे प्रकाश और लड़की सहित हम सबको बुलवाया। उन्हें इस बात शंका थी लड़की के परिजन वहां कुछ अनिष्ट कर सकते हैं,अतःवे वहां नही गए। भयभीत राजकुमार पैंकरा पुत्र प्रकाश और भानुमति को लेकर थाना लैलूंगा गए वहां घटना लिखित शिकायत की और वस्तुस्थिति बताई। उन्होंने थाने में लड़की के परिजनों की दबंगई से उनके परिवार को सुरक्षा दिलाने की मांग भी की। परन्तु पुलिस ने यह कहते हुए कि पहले लड़का-लड़की के बीच राजी- खुशी रहने की स्टाम्प में लिखा-पढ़ी करवा लो.फिर थाने आओ। लैलूंगा तहसील में लिखा पढ़ी के बाद हम वापस थाने आ गए। इसके बाद लैलूंगा थाने में उपस्थित पुलिस ने कहा कि प्रकाश और भानुमति के लिखा-पढ़ी को घरघोड़ा जाकर नोटरी करवाना पड़ेगा। इसके बाद राजकुमार ने बेटे प्रकाश और भानुमति को लैलूंगा अपने साडू के घर छोड़कर वापस अपने गांव किलकिला लौटने लगे आधे रास्ते मे राजकुमार की साली ने फोन पर सूचना दी कि किलकिला से मनु पैंकरा, गोपाल यादव,करमानंद पैंकरा,सजन पैकरा और अन्य लोग बोलेरो में आये तथा उसके घर जबरदस्ती घुस कर भानुमति और प्रकाश से मारपीट करते हुए उन्हें अपने साथ उठा कर किलकिला ले गए है। वे लोग गन्दी गन्दी गालियां बक रहे थे। उन्होंने कहा है कि राजकुमार अपने पत्नी के सांथ गांव के मीटिंग स्थल पर पहुंचे। वही फैसला किया जाएगा। राजकुमार ने आगे की घटना के विषय मे बताया सूचना के बात वह अपने साडू कृष्णाराम के सांथ मीटिंग स्थल पर पहुंच गया। जहां उक्त सभी व्यक्ति मेरे पुत्र और पत्नी के सांथ गाली गलौज करते हुए मारपीट करने लगे। इस समय घटना स्थल पर गांव का कोटवार और सरपंच दोनो उपस्थित थे। *उन्होंने उसके पुत्र से गम्भीर मारपीट करते हुए यातनाएं दी,सांथ ही 65 हजार रु का जुर्माना लगाया। जिसे 10 दिनों के भीतर समाज मे जमा करने को कहा।*

बात यही नही रुकी पंचायत में बैठे लोगों ने जिनमे परमानंद,पहलवान,यदुमनी,भूपदे-व ,धनीराम पैंकरा,सतराम,चमरा व अन्य ने उन्हें धमकाया की जुर्माने की राशि नही पटाने और उनकी बात न मानने पर उसके बेटे *प्रकाश के लिंग में तीन ईंट बांधकर और प्रेमिका भानुमति को गोद मे उठाकर बैंड बाजे के सांथ घुमाया जाएगा।*

घटना के बाद किसी तरह राजकुमार ने अपने पुत्र प्रकाश को लेकर घर आने लगे। जबकि आरोपी गण दूर तक उनका पीछा करते रहे। इस तरह सुबह पांच बजे पीड़ित राजकुमार अपनी पत्नी और बेटे प्रकाश के सांथ घर आ गए। थोड़ी ही देरी में जब वे अपने सांथ गए लोगो के बीच आंगन में बैठे हुए थे तब घर के बाहर राजकुमार की बड़ी बहु चिल्लाते हुए बाहर आई उसने कहा घर मे चोर घुसे है जो निकलकर बाड़ी की तरफ भागे हैं,उसकी आवाज सुनकर वे बॉडी की तरफ दौड़े वापस आकर घर मे देखा तो कि उसका बेटा प्रकाश फांसी के फंदे में झूल रहा था। इस बात की जानकारी मीटिंग बुलाने वालों को भी हुई वे लोग उसके घर आये लाश को देखा और चुपचाप वापस चले गए। घटना स्थल पर मिले साक्ष्य और वस्तुस्थिति को देखने के बाद उसे आशंका हुई कि उसका बेटा खुद आत्महत्या नही किया है, बल्कि उसे अकेला पा कर दोषियों ने मारकर फांसी में लटका दिया है। इधर गांव के कोटवार,जयनन्द और कृष्नाराम ने घटना की जानकारी लैलूंगा पुलिस को दी।

*लैलूंगा पुलिस के असहयोग से मेरे बेटे की जान गई*-राजकुमार पैंकरा

एस पी आफिस आये पीड़ित राजकुमार पैंकरा का साफ कहना है कि लैलूंगा पुलिस दोषीयों के सम्बंध में पूरी जानकारी होने के बाद भी उसके परिवार की उचित मदद नही की। यही वजह है कि दबंग दोषियों ने बिना कानून के भय के पूरी रात उनके पुत्र और पत्नी के सांथ गम्भीर मारपीट किया। अंततः मौका पाकर उसके जवान बेटे की निर्मम हत्या कर उसकी लाश फांसी में टांग दी।ताकि लोग उसे आत्महत्या समझे। अपनी आप बीती बताते हुए साफ शब्दों में पीड़ित पैंकरा दम्पत्ति का कहना है कि उनके बेटे की हत्या के जितने दोषी लड़की के परिजन और उनके सहयोगी है,उतनी ही ग़लती लैलूंगा पुलिस की भी है। घटना को लेकर उन्होंने 12 मार्च 2019 को ही लैलूंगा पुलिस को सूचना दे दी थी,परन्तु घटना के दोषियों को अब तक पुलिस ने नही पकड़ा है। बहरहाल घटना को लेकर दुखी और भयभीत परिजनों को आज एस पी रायगढ़ के पास फरियाद लगाने आना पड़ा।

*पुलिस बता रही है आत्महत्या और जांच जारी होने का दिया हवाला*

पीड़ित के आरोप के बाद मीडिया ने लैलूंगा पुलिस थाना प्रभारी से बात की तो उन्होंने बताया कि अभी मामले की जांच जारी है कुछ लोगो का बयान लिया जाना शेष है। फिलहाल प्रकरण आत्महत्या का नजर आ रहा है। मृतक ने अपने घर पर ही फांसी लगाई है। कुछ सन्दिग्ध लोगो के बयान के बाद ही पुलिस कुछ बता पाने की स्थिति में होगी।

*पिड़ीत परिवार ने एस पी रायगढ़ से निष्पक्ष जांच करने के सांथ पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है*

इधर लैलूंगा पुलिस की कार्यवाही से असंतुष्ट पीड़ित पैंकरा परिवार ने कहा कि वे चाहते है कि जिला पुलिस अधीक्षक की पहल पर मामले की निष्पक्ष जांच हो,उनके बेटे की हत्या करने वालों को भी उचित दंड मिले।

About Vidyanand Thakur

Leave a reply translated

Translate »