• कांग्रेस नेता नितिन भंसाली के शिकायत पर आबकारी विभाग में करोड़ों रुपयों के भ्रष्टाचार करने वाले समुद्र सिंह के ठिकानों पर तड़के सुबह ईओडब्ल्यू की छापेमारी
  • काशी तुम मंदिरों में होती थी कभी, सड़कों पर हो.. क्या देवता स्वर्ग लोक से लौटे हैं..!!!
  • भूपेश बघेल सरकार के 60 दिन के काम के आगे नही चली
  • श्रीलंका ब्लास्ट आई.एस.आई.एस. का अक्षम्य अपराध – रिजवी
  • पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता डीकेएस अस्पताल घोटाला और ओएसडी अरूण बिसेन की पत्नि का वेतन घोटाला उजागर करने पर मुझ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है : विकास तिवारी
  • जबलपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तनखा के पक्ष में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लेंगे सभायें

आज होलिका दहन, बुराई पर अच्‍छाई की जीत का त्‍योहार होली

आज होलिका दहन, बुराई पर अच्‍छाई की जीत का त्‍योहार होली

कोरिया जिला से संजय गुप्ता//

होली का त्योहार 20 और 21 मार्च को मनाया जाएगा। 20 मार्च, बुधवार को होलिका दहन होगा और 21 मार्च, गुरुवार को रंगों की होली खेली जाएगी। परंपरा अनुसार कोरिया जिला के मनेन्द्रगढ़ राममंदिर प्रांगण सहित अन्य जगहों पर भी होलिका फाल्‍गुन मास की पूर्णिमा के दिन जलाई जाती है और अगले दिन अबीर-गुलाल से होली खेलने की परंपरा है। होली का पर्व हिंदू धर्म में बहुत मायने रखता है। इस दिन रंगों के आगे द्वेष और बैर की भावनाएं फीकी पड़ जाती हैं और लोग एक-दूसरे को प्‍यार से रंग लगाकर यह त्‍योहार मनाते हैं।
होलिका पूजन और महत्‍व
होलिका दहन के लिए पूजा करते समय होलिका पर हल्‍दी से टीका लगाएं। इससे घर में समृद्धि आती है। होलिका के चारों ओर अबीर गुलाल से रंगोली बनाएं और उसमें पांच फल, अन्‍न और मिठाई चढ़ाएं। होलिका के चारों ओर 7 बार परिक्रमा करके जल अर्पित करें। होलिका दहन का पर्व पौराणिक घटना से जुड़ा हुआ है। इस दिन बुराई पर अच्‍छाई की जीत हुई थी। भगवान विष्‍णु के भक्‍त प्रह्लाद को होलिका की अग्नि भी जला नहीं पाई थी।
होली की राख का महत्व
होली की राख को बहुत ही पवित्र माना जाता है। होली की आग में गेहूं की नई बाली और हरे गन्‍ने को भूनना बहुत ही शुभ माना जाता है। उत्तर भारत के कुछ स्‍थानों पर गेहूं की बाली भूनकर संबंधियों और मित्रों में बांटने की भी परंपरा है। इसे सुख-समृद्धि की कामना के तौर पर देखा जाता है और ईश्‍वर से नई फसल की खुशहाली की प्रार्थना की जाती है।

होलिका की अग्नि से भविष्य का अनुमान भी लगाया जाता है कि आने वाला साल कैसा रहने वाला है। दरअसल यह पंचांग के अनुसार साल का अंतिम पर्व भी है। चैत्र नवरात्र को पंचांग के अनुसार साल का पहला पर्व माना जाता है।

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated

Translate »