• कांग्रेस नेता नितिन भंसाली के शिकायत पर आबकारी विभाग में करोड़ों रुपयों के भ्रष्टाचार करने वाले समुद्र सिंह के ठिकानों पर तड़के सुबह ईओडब्ल्यू की छापेमारी
  • काशी तुम मंदिरों में होती थी कभी, सड़कों पर हो.. क्या देवता स्वर्ग लोक से लौटे हैं..!!!
  • भूपेश बघेल सरकार के 60 दिन के काम के आगे नही चली
  • श्रीलंका ब्लास्ट आई.एस.आई.एस. का अक्षम्य अपराध – रिजवी
  • पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता डीकेएस अस्पताल घोटाला और ओएसडी अरूण बिसेन की पत्नि का वेतन घोटाला उजागर करने पर मुझ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है : विकास तिवारी
  • जबलपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तनखा के पक्ष में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लेंगे सभायें

ट्रेक्टर फायनेंस की राशि जमा करने आए शख्स को निजी बैंक के असिस्टेंट मैनेजर ने स्टाफ सहित मिलकर पीटा

ट्रेक्टर फायनेंस की राशि जमा करने आए शख्स को निजी बैंक के असिस्टेंट मैनेजर ने स्टाफ सहित मिलकर पीटा

असिस्टेंट बैंक मैनेजर व स्टाप की दबंगई

संजय गुप्ता की रिपोर्ट//

कोरिया जिला में संचालित एक निजी बैंक में ट्रेक्टर फायनेंस की बकाया राशि जमा करने आए व्यक्ति के साथ बैंक के असिस्टेंट

मैनेजर और स्टाफ के द्वारा मारपीट किए जाने का मामला सामने आया है। बड़ी बेलिया जिला अनूपपुर निवासी मुसकू चौधरी ने बताया कि दो साल पूर्व उन्होंने इंड्सइंड बैंक से ट्रेक्टर फायनेंस कराया था जिसकी 24 किश्त उनके द्वारा पटाई जा चुकी है तथा मंगलवार को शेष किश्तों की एकमुश्त राशि भुगतान करने के लिए उसकी पत्नी और साथी कोतमा निवासी मो. अफरोज को लेकर इंड्सइंड बैंक आए हुए थे की अफरोज ने असिस्टेंट मैनेजर से बकाया राशि के विषय में जानकारी मांगी जिस पर विवाद हो गया। और विवाद बढऩे पर असिस्टेंट मैनेजर हरी शुक्ला ने अपने स्टाफ के साथ मिलकर अफरोज के साथ जमकर मारपीट कर उसके कपड़े भी फाड़ दिए।
तथा बैंक के अंदर होते वाद-विवाद और शोरगुल की आवाज सुनकर लोगों की भीड़ जमा हो गई। बाद में पीडि़त पक्ष ने पुलिस थाने जाकर घटना की शिकायत दर्ज कराई। इस बीच थाने में ही मुसकू चौधरी की पत्नी की तबीयत खराब हो जाने पर उसे तत्काल शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाकर भर्ती कराया गया। वहीं उक्त संबंध में असिस्टेंट मैनेजर हरी शुक्ला से जब उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। नाम पूछने पर उसने अपना नाम छापने से मना करते हुए बैंक का नाम प्रकाशित करने की सलाह दे डाली। गौरतलब है कि पूर्व में भी इस तरह की कई घटनाएं उक्त बैंक में हो चुकी हैं जिससे बैंक की शाख को बट्टा लगने लगने के साथ ही ग्राहकों का विश्वास भी उठता जा रहा।

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated

Translate »