• रायगढ़ विधानसभा कार्यकर्ता सम्मेलन 25 को होगी
  • रायपुर । 23 मार्च: इस देश में सारी विचारधाराओं को आज़माया जा चुका है. अब समय भगत सिंह और डॉ अंबेडकर के विचारों को आज़माने का है. ये विचार हैं वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के.
  • बलोदा बाजार की गिधौरी बस स्टैंड के पास चलती ट्रक में लगी आग
  • यूपी से आये फ़ाग गायकों के गीत पर विधायक डॉ. विनय ने समर्थकों के साथ मनाई होली
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा किये गए अभूतपूर्व विकास कार्य को लेकर जनता के बीच जाएगी भाजपा
  • नशे में धुत युवक करना चाह रहे थे घिनौना काम,विफल होने पर दिए ऐसे घटना को अंजाम की जानकार सबकी रूहें कांप जायेगी,विस्तार से जानने के लिए पढ़ें-आज का दिन

जशपुर जिला में बॉर्डर की सिक्योरिटी पर क्यों उठ रहे सवालिया निशान,जानने के लिए पढ़ें-आज का दिन

रायपुर-जशपुर जिले की पुलिस द्वारा अभी जोर शोर से गांजा तस्करों पर लगाम कसी जा रही है,इन दिनों कुनकुरी थाने की टीम ने कई क्विंटल गांजे की तस्करी को पकड़ कामयाबी के के झंडे गाड़ दिए हैं,वहीं तपकरा पुलिस भी गाहे बगाहे तस्करों को धर दबोचने सफलता पा रही है,विचारणीय है कि छत्तीसगढ़ राज्य के समीपस्थ अन्य राज्य की सीमाएं है जहां से गांजे की खेप कुनकुरी थाने से होकर गुजरती है!!

दीपेश सैनी जब थाना प्रभारी तपकरा थे तब एक भी वाहन जो तस्करी में लिप्त थे मय तस्कर हमेशा पुलिस के हत्थे चढ़े,मगर आज स्थिति दीगर है आज अपराधी वाहन छोड़ फरार होने कामयाब हो रहे हैं,वहीं बॉर्डर की सिक्योरिटी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं तपकरा मार्ग पर लवाकेरा बॉर्डर है तपकरा थाना है जिससे बचते तस्करों का कुनकुरी में दबोचा जाना आश्चर्यजनक है!!

इन तस्करों पर हो रही पुलिसिया कार्यवाही सुस्त है,,लापरवाह है,, या किसी को हीरो बनाने कोई गहरी साजिश है यह विचारणीय है मगर जिस तरह तस्करों के द्वारा बॉर्डर और उसके समीप के थानों को गच्चा दे कुनकुरी में धरे जा रहे हैं सन्देह पैदा करता है !!

खैर मामला चाहे जो भी हो जशपुर पुलिस ने जो अपने कंधों पर जिले की जिम्मेदारी ली हुई है वह काबिले तारीफ है विविध अपराध का गिरता ग्राफ और फरार आरोपियों को खुलेआम शहर सहित ग्रामीण इलाकों में विचरण करते देखा जा सकता है,सुर्खियों में छाए जशपुर पोलिस की अकर्मण्यता पेंडिंग केसों में देखी जा सकती है जहां एक थल सेना के जवान की हत्या के केस को लटकाने ,सामान्य नागरिक की पोलिस थाने में पिटाई,, प्रशासन और शासन के कार्यों को दिखाने शामिल पत्रकारों पर मामले दर्ज करने के बहुत सारे ऑफ़रिकार्ड केस हैं जो अब तक लम्बित हैं,,जिनपर समय देने पोलिस महकमे के पास समय ही नही है!!

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Newsletter