• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

अनिवार्य सेवा निवृत्ति के मामले में शासन ने हाईकोर्ट के आदेश को उपेक्षित किया

रायपुर-राज्य कर्मचारी संघ छत्तीसगढ़ के प्रदेश महामंत्री ए.के.चेलक ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर छत्तीसगढ़ शासन के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा अनिवार्य सेवानिवृत्ति मामले में 50 वर्ष की आयु पूर्ण करने अथवा 20 वर्ष की सेवा पूर्ण करने के उपरांत जारी आदेश पर उच्च न्यायालय छत्तीसगढ़ बिलासपुर द्वारा दिए गए आदेश को उपेक्षित करने का आरोप लगाया है। चेलक द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी परिपत्र में कंडिका 3 में स्पष्ट रूप से उच्च न्यायालय बिलासपुर द्वारा याचिका क्रमांक एस-6889/2017 वी प्रभाकर राव विरूद्ध छत्तीसगढ़ शासन एवं अन्य में आदेश पारित कर अनिवार्य सेवा निवृत्ति शासकीय सेवकों द्वारा प्रस्तुत अभ्यावेदनों पर विचार करने के लिए उक्त विभाग के परिपत्र दिनांक 5 मई 2018 तक निर्धारित 60 दिवस की समयावधि में मामलों पर निराकरण करने के लिए समय दिया गया था, बावजूद इसके शासन द्वारा पुराने आदेश पर अमल कर कर्मचारियों को मानसिक तौर पर प्रताडि़त किया जा रहा है। जो कि उच्च न्यायालय बिलासपुर द्वारा पारित आदेश की खुलेआम अवहेलना है। प्रदेश महामंत्री ने सचिव सामान्य प्रशासन विभाग एवं मुख्य सचिव को पत्र लिखकर उच्च न्यायालय द्वारा जारी आदेश तत्काल लागू करने की मांग की है।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Newsletter