• अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर वन मंत्री मोहम्मद अकबर कवर्धा के योग कार्यक्रम में होंगे शामिल
  • क्या संजीव भट्ट को फर्जी मामलों में उम्र कैद हुई है..?
  • बुजुर्गो के साथ भाजयुमो ने मनाया रोशन का जन्मदिन
  • मुस्लिमों को मार रहा हैं चीन,मानव अंगो की कमी को पूरा करने के लिए चीनी जेलों में बंद कैदियों के शरीर का सहारा ले रही चीन
  • पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव कर रहे हैं विभागीय कार्यों की समीक्षा
  • कृषि स्थायी समिति की बैठक 26 जून को

चंदन सा बदन चंचल चितवन..!!!

चंदन सा बदन चंचल चितवन..!!!

नितिन राजीव सिन्हा

नरेंद्र मोदी देश के प्रधान सेवक हैं वे तलवार उठाते हैं तो योद्धा लगते हैं और हाथ हिलाते हैं तो खनकती हुई सी स्वर लहरियाँ उभरती हैं लगता है नई बहू रोटी बना रही हो,बना तो रोटी रही है पर,चूड़ी खनका ऐसे रही है कि वह कविता बन जा रही है पुराने हिंदी गीत चंदन सा बदन चंचल चितवन का चित्रण केनवास पर होता हुआ दिख रहा है..,
चुरु राजस्थान में पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर हुए हवाई हमले के बाद मोदी ने एक कविता गढ़ी और मंच से पढ़ी कि-
सौगंध है मुझे
मिट्टी की,मैं
देश नहीं
मिटनें दंगा..,
इस पर लिखना होगा कि ऐसा सौगंध डोली में बैठने के बाद नई नवेली बहू रानी भी खाती है के डोली उठने के बाद अब,अर्थी ससुराल से ही उठेगी..,
ख़ैर,हमले के फ़ौरन बाद ३०० आतंकियों के मारे जाने की ख़बर आ गई जबकि तब तक न तो रेड क्रॉस सोसायटी ने इसकी पुष्टि की थी और नही किसी अन्तर्राष्ट्रीय एजेंसी ने कोई आँकड़े जारी किये थे..,
रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि यह व्यवहरिक नहीं है कि सरकारी पुष्टि के पूर्व ही बता दिया जाये कि ३०० आतंकी मारे गये,इस मामले में कुछ परिपक्वता दिखानी चाहिये थी और यह कहा जाना बेहतर होता कि बड़ा नुक़सान किया गया है..,

मोदी की काव्य संस्कृति पर ग़ौर किया जाये तो वे आगे कहते हैं कि
मेरा वचन है
भारत माँ को
तेरा शीश नहीं
झुकनें दूँगा..,
आगे वे प्रचार की मुद्रा में आ जाते हैं और कह जाते हैं-
जाग रहा है
देश मेरा
हर भारत
वासी जीतेगा..,
मतलब साफ़ है कि चौकीदार जगा रहा है और देश जाग रहा है..? आत्मप्रशंसा का यह बोध प्रधानमंत्री के पद पर बैठे हुए व्यक्ति को शोभा दे या न दे पर,अतिरंजना राष्ट्र की गरिमा को ठेस पहुँचाता ज़रूर है..,जिस पर लिखना होगा कि-
अहबाब को दे
रहा हूँ धोका
चेहरे पर ख़ुशी
सज़ा रहा हूँ..!!!

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated