• प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी पर देश की जनता की तरह दिल्ली की जनता को भी पूर्ण विश्वास है-मनोज तिवारी
  • ईव्हीएम मशीनों को दोहरे ताले से किया गया सील
  • Gulab ka Sharbat
  • Bel Ka Juice
  • भारतीय अर्थव्यवस्था
  • Garmi Me Piye Istrawberi

स्काई वॉक निर्माण में होगी अनियमितता की जांच-लोकनिर्माण मंत्री

धर्मजीत सिंह एवं ब्रिहस्पति सिंह ने ध्यानाकर्षण सूचना मेंउठाया औचित्य का प्रश्न

रायपुर छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज सदस्य धर्मजीत सिंहएवं ब्रिहस्पति सिंह ने आज छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजटसत्र के दौरान अपनी ध्यानाकर्षण सूचना के माध्यम से रायपुरशहर में निर्माणाधीन स्काई वॉक की आवश्यकता, निर्माण एवंऔचित्य का प्रश्र उठाया। जिसके जवाब में छत्तीसगढ़ केलोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने लिखित वक्तव्य मेंविस्तृत जानकारी दी। जिससे असंतुष्ठ प्रश्र कर्ताओं नेस्काईवॉक निर्माण में हुई अनियमितता की जांच करने कीमांग की। इस संबंध में मंत्री ने सदन में घोषणा की कि निर्माणमें यदि अनियमितता हुई है तो उसकी जांच कराई जाएगी।

लोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने वक्तव्य में बतायाकि रायपुर शहर में निर्माणाधीन पैदल यात्रियों के लिए आनेजाने हेतु सुरक्षित यातायात की दृष्टि से अतिव्यस्ततम शास्त्रीचौक पर स्काई वॉक का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंनेकहा कि शासन द्वारा इसे वर्ष 2016-17 की बजट में शामिलकिया गया। तत्पश्चात शासन द्वारा एस.एन.भोबे एंडएसोसिएट्स प्राईवेट लिमिटेड मुंबई को दिनांक20/09/2016 द्वारा डी.पी.आर. एवं पी.एम.सी. तैयार करनेहेतु अनुबंध किया गया। कंसल्टेंट द्वारा डी.पी.आर.के अनुसारशास्त्री चौक पर प्रतिदिन लगभग 27000 पैदल यात्रियों एवंमेकाहारा चौक पर लगभग 14000 पैदल यात्रियों के आनेजाने का सर्वे किया गया। कंसल्टेंट द्वारा प्रस्तुत डी.पी.आर.एवं प्राक्कलन के आधार पर राशि रूपऐ 5908.89 लाख कीप्रशासकिय स्वीकृति दिनांक 08/03/2017 को विभाग द्वारादी गई थी तत्पश्चात अनुबंध की प्रक्रिया पूर्ण कर मेसर्सजी.एस.एक्सप्रेस प्राईवेट लिमिटेड लखनऊ को दिनांक24/04/2017 को कार्यादेश जारी कर कार्यारंभ किया गया।स्थल परिस्थिति के कारण एवं कार्य में हुए परिवर्तन के आधारपर विभागीय पत्र दिनांक 13/12/2018 को रूपए7710.30 लाख की राशि की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृतिप्रदान की गई थी।

मंत्री ने बताया कि स्काईवॉक की कुल लंबाई 1470.00 मीटरहै (मल्टीनेशनल पार्किंग जयस्तंभ चौक की ओर-614.00 मीटर, अम्बेडकर की ओर-590.00 मीटर एवं शास्त्री चौक पररोटरी भाग-266.00 मीटर) स्काईवॉक की चौड़ाई मल्टीलेवलपार्किंग एवं अम्बेडकर अस्पताल की ओर-3.75 मीटर, तथारोटरी भाग में-4.00 मीटर रखी गई है। इस कांसेप्ट में कोईपरिवर्तन किया जाना प्रस्तावित नहीं है। वर्तमान में लगभग50 प्रतिशत कार्य पूर्ण है एवं कार्य प्रगति पर है। अब तक रू. 3644.20 लाख व्यय हो चुका है। विभाग द्वारा दिनांक 21, 22 जनवरी को कोई बैठक आयोजित नहीं की गई थी अपितुमहापौर रायपुर द्वारा उक्त तिथि के समीक्षा बैठक में स्काईवॉक के साथ अन्य सुविधाओं चहल पहल बनाये रखने जैसेपालिका बाजार एवं रखरखाव हेतु राजस्व प्राप्ति के बारे मेंजानकारी चाही गई थी विभाग द्वारा 32 नग दुकान पूर्व से हीप्राक्कलन में सम्मिलित होना बताया गया। निर्माण कार्यविभागीय अधिकारियों एवं कंसलटेंट की देख रेख में मापदण्डएवं गुणवत्तापूर्वक कराया जा रहा है। स्काईवॉक का निर्माण, आम नागरिकों के उपयोग के लिए किया जा रहा है।स्काईवॉक के निर्माण से आम नागरिकों में शासन/प्रशासन केप्रति कोई रोष एवं आक्रोश व्याप्त नहीं है।

अपनी ध्यानाकर्षण सूचना में सदस्य धर्मजीत सिंह एवंबृहस्पति सिंह ने कहा कि रायपुर शहर में महज 1.5 किलोमीटर में बन रहे स्काई वॉक की निर्माण लागत दिनप्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कुल 45-46 करोड़ लागत अब 80 करोड़ तक बढ़ गई है, जो निर्माण आज से एक साल पहलेपूर्ण हो जाना था वह अब भी 60 से 70 प्रतिशत पूरा हो पायाहै, मगर बजट दो गुना बढ़ गया है। शहरवासी स्काई वॉक केउपयोग और इस पर किए जाने वाले बेहिसाब खर्च सेअचंभित हैं। स्काईवॉक बनाने का निर्णय चंद अधिकारियों नेनिजी कंपनी से सांठगांठ कर ले लिया और आननफानन मेंबिना सोचे समझे काम भी चालू करा दिया। ठेकेदार ड्राईंगडिजाईन को नजर अंदाज कर मनमाफिक काम करा रहा है।स्काईवॉक का निर्माण 70 प्रतिशत पूरा होने के बाद आलाअफसर इसकी उपयोगिता पर प्रश्र चिन्ह खड़े करने में लगे हैं।21-22 जनवरी 2019 को समीक्षा बैठक आयोजित करस्काईवॉक का कांसेप्ट ही बदलने पर विचार किया गया।तथाकथित विशेषज्ञ स्काईवॉक पर बाजार लगाने, दुकानलगाने जैसे अजीबोगरीब सुझाव देकर शहरवासियों का ध्यानहटाने में लगे हैं। काम शुरू होने के पहले तो किसी भीप्रकार का सर्वे किया, ही आम नागरिकों, प्रतिनिधियों कासुझाव मांगा गया। जिसके परिणाम स्वरूप स्काईवॉक अबस्काई सुरंग ही साबित हो गया है। जनता की गाढ़ी कमाई काफिजूखर्च तथा औचित्यहीन निर्माण से रायपुर शरह के आमनागरिकों में शासन/प्रशासन के प्रति रोष एवं आक्रोश व्याप्तहै।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Translate »