• स्नेहा तुम्हारी जाति क्या है? पहली बार देश में ये माना गया है कि कोई व्यक्ति जाति और धर्मविहीन हो सकता है. सरकार ने इसका सर्टिफिकेट जारी किया है. ये एक बड़ी सामाजिक क्रांति की शुरुआत हो सकती है
  • कलेक्टर से निगम समस्या को लेकर भाजपा पार्षद दल ने की मुलाकात
  • News
  • खाद्य, नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण, आवास एवं पर्यावरण, परिवहन एवं वन विभाग के लिए 4469 करोड़ 54 लाख 45 हजार रूपए की अनुदान मांगें ध्वनि मत से पारित
  • आरटीआई कार्यकर्ता राजकुमार मिश्रा को प्रदेश के उच्च व निम्न न्यायिक अधिकारियों के विरुद्ध लंबित विभागीय जांच की जानकारी 30 दिनों के भीतर देने का आदेश
  • जशपुर के पर्यटन एवम पुरातात्विक स्थलों के बारे में प्रदेश में आवाज़ उठाई विधायक यूडी मिंज ने

महिलाओं को काबू करने वाले ऐप को लेकर हंगामा, निशाने पर गूगल और एपल

नई दिल्ली, – एपल और गूगल को मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, इन्होंने एक ऐसे ऐप को होस्ट किया जो सऊदी अरब में पुरुषों को यह सुविधा देता है कि वह महिलाओं को ट्रैक कर सकते हैं और उनकी गतिविधियों को सारी जानकारी रख सकते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस ऐप का नाम एबसर है। इस ऐप के जरिए घर के पुरुष अपनी पत्नी या घर की किसी अन्य महिला को यात्रा करने की इजाजत दे सकेंगे। अगर महिलाएं कहीं जाने के लिए अपने पासपोर्ट का इस्तेमाल करती है, तो उसकी जानकारी उनके पति के पास पहुंच जाएगी और पुरुष चाहें तो महिलाओं को बार्डर पार करने से रोक सकते हैं।
यह ऐप गूगल प्ले और एपल के ऐप स्टोर पर मौजूद है जिसके बाद इस मामले पर विवाद बढ़ गया है। एमनेस्टी इंटरनेशनल, ह्यूमन राइट वॉच और एक महिला अधिकार एक्टिविस्ट ने एपल और गूगल को इस ऐप की होस्टिंग करने पर दोबारा विचार करने के लिए कहा है।
आपकी जानकारी के बता दें, सऊदी अरब के कानून के मुताबिक महिलाओं को यात्रा करने के लिए घर के पुरुष सदस्य से इजाजत लेनी होती है। अगर पुरुष ने यात्रा करने की इजाजत नहीं दी, तो महिला को यात्रा नहीं करने दिया जाएगा। इस मामले में गूगल और एप्पल की ओर से कोई सफाई नहीं दी गई है।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *