• स्नेहा तुम्हारी जाति क्या है? पहली बार देश में ये माना गया है कि कोई व्यक्ति जाति और धर्मविहीन हो सकता है. सरकार ने इसका सर्टिफिकेट जारी किया है. ये एक बड़ी सामाजिक क्रांति की शुरुआत हो सकती है
  • कलेक्टर से निगम समस्या को लेकर भाजपा पार्षद दल ने की मुलाकात
  • News
  • खाद्य, नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण, आवास एवं पर्यावरण, परिवहन एवं वन विभाग के लिए 4469 करोड़ 54 लाख 45 हजार रूपए की अनुदान मांगें ध्वनि मत से पारित
  • आरटीआई कार्यकर्ता राजकुमार मिश्रा को प्रदेश के उच्च व निम्न न्यायिक अधिकारियों के विरुद्ध लंबित विभागीय जांच की जानकारी 30 दिनों के भीतर देने का आदेश
  • जशपुर के पर्यटन एवम पुरातात्विक स्थलों के बारे में प्रदेश में आवाज़ उठाई विधायक यूडी मिंज ने

मुख्यमंत्री【भूतपूर्व]रमन सिंह के इशारे पर साजिश रच रहे थे आईपीएस,मुकेश गुप्ता और रजनीश

मुख्यमंत्री【भूतपूर्व]रमन सिंह के इशारे पर साजिश रच रहे थे आईपीएस,मुकेश गुप्ता और रजनीश

राजकुमार सोनी की कलम से//

रायपुर. कुख्यात पुलिस अफसर मुकेश गुप्ता और रजनेश सिंह पर कई बड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज होने के बाद छत्तीसगढ़ के प्रशासनिक और राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है. प्रशासन और राजनीति के मूर्धन्य भूपेश सरकार की इस तगड़ी कार्रवाई का समर्थन कर रहे हैं. दरअसल पिछले पन्द्रह साल में मुकेश गुप्ता और सुपर सीएम अमन सिंह के बारे में एक आम धारणा बन गई थीं कि दुनिया की कोई भी ताकत इन दोनों का बाल बांका नहीं कर सकती, लेकिन भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री बनने के बाद यह साबित कर दिया कि कानून सबके लिए बराबर है. इधर छत्तीसगढ़ कांग्रेस की नेत्री और अधिवक्ता किरणमयी नायक ने एक बयान जारी कर पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह को लपेटे में लिया है. उन्होंने रमन सिंह से यह जानना चाहा है कि बदलापुर-बदलापुर का राग आलापने वाले रमन सिंह को यह तो बताना ही चाहिए कि पन्द्रह सालों तक प्रशासनिक अफसरों, पत्रकारों और अन्य महत्वपूर्ण लोगों का फोन टेप कर उन्हें साजिश के तहत फंसाने वाले मुकेश गुप्ता और रजनेश सिंह के पीछे किसका दिमाग काम कर रहा था. किरणमयी ने कहा कि तमाम तरह के लोकतांत्रिक मूल्यों को दरकिनार कर पूर्व मुख्यमंत्री अपने चहेते अफसर मुकेश गुप्ता और रजनेश सिंह से साजिश के तहत काम करवा रहे थे. दोनों अफसर अवैध रुप से लोगों का फोन टेप कर राजनीति और प्रशासन से जुड़े लोगों को ब्लैकमेल करते थे.

उन्होंने कहा कि पिछले पंद्रह वर्षों में इस राज्य का बच्चा-बच्चा यह जानने लगा था कि छत्तीसगढ़ में मोबाइल फ़ोन पर बात करना सुरक्षित नहीं है. चाहे राजनीतिक दलों के लोग हों या अफसर ,पत्रकार ,सामाजिक कार्यकर्ता या मानवाधिकार कार्यकर्ताओं से लेकर व्यापारी वर्ग तक इंटरनेट कॉलिंग में यकीन करने लगा था .चर्चा तो ये भी होती थी कि मुकेश गुप्ता या रजनीश सिंह जैसे अफसर अपने आकाओं के इशारे पर सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं और सरकार के मंत्रियों तक के फ़ोन कॉल्स अवैध रूप से सुनते थे .रमन सरकार ने हर स्तर पर लोकतांत्रिक मूल्यों का ही हनन नहीं किया बल्कि नागरिकों की निजता के संवैधानिक अधिकारों पर भी हमला किया है.

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *