• मादा चीतल की कुएं में गिरने से मौत,कुत्तों के झुंड के हमलों से बचने भागी थी
  • रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए भालू की ट्रेन से कटकर मौत…,नागपुर रोड से बिश्रामपुर रेलवे लाइन के बीच दर्री टोला के पास उजियारपुर की घटना
  • प्रार्थी पर जानलेवा हमला के बाद, केल्हारी थाना प्रभारी पर आरोपी के ऊपर नरम रुख अख्तियार करने का आरोप
  • जांच नहीं होने देने रोकने, सत्य को छिपाने, सबूतों का दबाने का खेल छत्तीसगढ़ की ही तरह दिल्ली की सरकार में भी जारी है:-कांग्रेस
  • प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर, पूरा गांव चर्म रोग के शिकार
  • मिशन उराँव समाज के विरोध से कांग्रेस में घमासान,पार्टी की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही

बजट ने शिक्षक(पंचायत/एल बी) संवर्ग की उम्मीदो पर पानी फेरा-केदार जैन

बजट ने शिक्षक(पंचायत/एल बी) संवर्ग की उम्मीदो पर पानी फेरा-केदार जैन

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा जारी बजट में शिक्षक(पंचायत/एल बी) संवर्ग के लिए कुछ भी प्रावधान नही होने से शिक्षाकर्मियों की सारी उम्मीदे धराशयी हो गई है।

सँयुक्त शिक्षाकर्मी संघ के प्रांताध्यक्ष “केदार जैन” ने इस बजट पर अपनी प्रक्रिया देते हुवे कहा कि वर्तमान सरकार ने अपने घोषणा पत्र में वर्ष बंधन रहित संविलियन, पिछली सेवावधि की गड़ना करते हुवे क्रमोन्नत वेतनमान,सहायक शिक्षक पंचायत/एल बी संवर्ग के वेतन विसंगति दूर करने की प्रतिबद्धता की थी और आज पेश किए जाने वाले इस बजट को पूरे प्रदेश के समस्त शिक्षाकर्मी,क्रियान्वयन दिवस मानते हुवे टकटकी लगाए इंतजार कर रहे थे परंतु इस बजट में शिक्षको के लिए कोई प्रावधान न होने से उनकी भावनाये आहत हुई है। केदार जैन ने अपनी बात रखते हुवे कहा कि जिस प्रकार से कर्मचारी जगत के सबसे बड़े समूह ने निर्वाचन के दौरान अपने बहुमत से इस सरकार को नवाज़ा ठीक उसी प्रकार से सरकार को भी अपने वादों में खरा उतरना पड़ेगा।वर्षो से छले जा रहे शिक्षको को जो उम्मीद की किरण कांग्रेस सरकार ने दिखाई है उसकी रोशनी में सराबोर होने को प्रदेश का हर शिक्षाकर्मी बेताब था ऐसे में इस बजट में शिक्षक संवर्ग के लिए कुछ भी नही होना….एक प्रश्न वाचक चिन्ह बनकर हर शिक्षाकर्मी के चेहरे पर दिखाई दे रहा है।
केदार जैन ने बताया कि शीघ्र ही समस्त संघो की बैठक बुला कर अपनी जायज मांगो की पूर्ति हेतु आंदोलन सहित अन्य विकल्पों के क्रियान्वयन की रणनीति बनाई जाएगी।

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated

Newsletter