• स्नेहा तुम्हारी जाति क्या है? पहली बार देश में ये माना गया है कि कोई व्यक्ति जाति और धर्मविहीन हो सकता है. सरकार ने इसका सर्टिफिकेट जारी किया है. ये एक बड़ी सामाजिक क्रांति की शुरुआत हो सकती है
  • कलेक्टर से निगम समस्या को लेकर भाजपा पार्षद दल ने की मुलाकात
  • News
  • खाद्य, नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण, आवास एवं पर्यावरण, परिवहन एवं वन विभाग के लिए 4469 करोड़ 54 लाख 45 हजार रूपए की अनुदान मांगें ध्वनि मत से पारित
  • आरटीआई कार्यकर्ता राजकुमार मिश्रा को प्रदेश के उच्च व निम्न न्यायिक अधिकारियों के विरुद्ध लंबित विभागीय जांच की जानकारी 30 दिनों के भीतर देने का आदेश
  • जशपुर के पर्यटन एवम पुरातात्विक स्थलों के बारे में प्रदेश में आवाज़ उठाई विधायक यूडी मिंज ने

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ का दावा मनमोहन राज में हर माह टैप होते थे 9 हजार फोन और 500 ईमेल!

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ का दावा मनमोहन राज में हर माह टैप होते थे 9 हजार फोन और 500 ईमेल!

नई दिल्ली- केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ ने एक आरटीआई का हवाला देते हुए दावा किया कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह के राज में हर माह 9 हजार फोन और 500 ईमेल टैप होते थे।इस आरटीआई के अनुसार संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार के कार्यकाल के दौरान 2013 में सरकारी एजेंसियों को कानूनी तौर पर निगरानी करने के लिए अधिकार दिए गए थे। इन एजेंसियों में इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी), नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) डीआरआई, सीबीडीटी जैसी संस्थाएं थीं। वहीं एक अन्य आरटीआई को दिए गए जवाब में बताया गया है कि यूपीए सरकार के कार्यकाल में हर माह लगभग 300 से 500 ई-मेल अकाउंट की जानकारियां खंगालने के आदेश जारी होते थे। गौरतलब है कि हाल ही में केंद्र सरकार ने 10 केंद्रीय एजेंसियों को किसी भी कंप्यूटर सिस्टम में रखे गए सभी डाटा की निगरानी करने और उन्हें देखने के अधिकार दिए हैं। अधिसूचना पर बवाल मचने के बाद केंद्रीय मंत्री राठौड़ ने यह जानकारी दी।आदेश के मुताबिक 10 केंद्रीय जांच और खुफिया एजेंसियों को अब सूचना प्रौद्योगिकी कानून के तहत किसी कंप्यूटर में रखी गई जानकारी देखने, उन पर नजर रखने और उनका विश्लेषण करने का अधिकार होगा।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *