• कमांडो की कहानी उनकी ही जुबानी सुनिए जो देश की सड़ी-गली और भ्रष्ट व्यवस्था से लड़ते-लड़ते थक चुके तो है पर हारे नहीं…सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाना महंगा पड़ रहा है जवान को
  • सोशल मीडिया में उभरता सितारा आईटी सेल कांग्रेस का अभय सिंह…जानिए क्या है इनकी पहचान
  • छत्तीसगढ़ के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए जशपुर कांग्रेस धरना प्रदर्शन कर पांच सुत्रीय मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन……….जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल ने कहा…..
  • विधानसभा में विधायक कुनकुरी के प्रश्न के जवाब में वनमंत्री अकबर ने दी जानकारी,सीपत राँची विद्युत लाईन विस्तार में 4958 पेड़ो की बलि
  • विधानसभा में मुख्यमंत्री ने यूडी मिंज के प्रश्न का जवाब दिया,डीएमएफ मद में प्राप्त शिकायत की जाँच होगी
  • नई दिल्ली : दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया। वे लंबे समय से बीमार चल रही थीं।
  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • nasir
  • halim
  • pawan
  • add hiru collage
  • add sarhul sarjiyus
  • add safdar hansraj
  • add harish u.d.
  • add education 01

खेल-खेल में बच्चों को ऐसे सिखाएं आत्मनिर्भर बनना

खेल-खेल में बच्चों को ऐसे सिखाएं आत्मनिर्भर बनना

फेवरिट डिश,कपड़े और जूते का चुनाव खुद करने दें
आप हमेशा या यूं कहें जिंदगी भर अपने बच्चे के साथ नहीं रह सकते और न ही आपका बच्चा हमेशा बच्चा ही रहेगा। एक समय आएगा जब उसे अपनी जिंदगी के सारे फैसले खुद लेने पड़ेंगे। ऐसे में आपको बचपन से ही अपने बच्चे को आत्मनिर्भर बनाना पड़ेगा। इसकी शुरुआत आप छोटी-छोटी चीजों से कर सकती हैं जैसे- बचपन से ही वे अपने कपड़े और जूते चुनें या रेस्तरां में अपनी फेवरिट डिश का चुनाव खुद करें।

बच्चों को उनके काम खुद करने दें
अगर आप अपने बच्चों के सारे काम खुद करेंगी तो बच्चे को उसकी आदत पड़ जाएगी। उन्हें अपना बेड खुद से सेट करने को बोलें और डिनर टेबल भी बच्चों से सेट करवाएं। उन्हें ये अहसास दिलाएं कि ये उनका भी घर है और बाकि लोगों की तरह उन्हें भी घर के हर काम में सहयोग करना होगा। आप उन्हें जितने काम के लिए बोलेंगी ,वे उतने ही जिम्मेदार और आत्मनिर्भर बनेंगे।

बच्चों को अपनी मदद के लिए प्रोत्साहित करें
अपने हर काम में बच्चे की मदद लें। चाहे कपड़े धुलने हों या खाना बनाना हो। इसमें कोई दो राय नहीं है कि बच्चे काम करेंगे तो चीजें इधर-उधर हो जाएंगी। हो सकता है कि वे कपड़े धोएं कम और आपका काम ज्यादा फैलाएं लेकिन इससे कम से कम वे मदद करना सीखेंगे। अगली बार आपके बिना बोले ही वे मदद करने को आ जाएंगे।

बच्चों को कुछ चीजों का सामना खुद करने दें
एक पैरंट के तौर पर आप अपने बच्चे के लिए सबकुछ करना चाहते हैं। उन्हें हर तरह की मुश्किल से बचाना चाहते हैं। लेकिन इस मामले में आपको एक कदम पीछे लेना होगा ताकि आपका बच्चो उस चीज को खुद अनुभव करे,उस परिस्थिति का सामना खुद करे।

रुटीन बनाएं और बच्चे से उसे फॉलो करने को कहें
ये ध्यान रखें कि एक निश्चित रूटीन फॉलो करें। इससे आपको एक सेंस ऑफ अथॉरिटी मिलेगी और बच्चे को फॉलो करने के लिए एक पैटर्न मिलेगा। इससे वे अपने रोज के टास्क को एक सिस्टमैटिक तरीके से कर पाएंगे। जैसे रात में सोने से पहले स्कूल के जूते पॉलिश करना। ऐसे बच्चे अपने सारे काम खुद से करना सीख जाएंगे और आपकी मदद भी नहीं मांगेंगे। बच्चों की आत्मनिर्भरता के लिए ये पहला कदम हो सकता है।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

  • के बी पटेल नर्सिंग कॉलेज
  • Samwad 04
  • samwad 03
  • samwad 02
  • samwad 01
  • education 04
  • education 03
  • education 02
  • add seven