• स्नेहा तुम्हारी जाति क्या है? पहली बार देश में ये माना गया है कि कोई व्यक्ति जाति और धर्मविहीन हो सकता है. सरकार ने इसका सर्टिफिकेट जारी किया है. ये एक बड़ी सामाजिक क्रांति की शुरुआत हो सकती है
  • कलेक्टर से निगम समस्या को लेकर भाजपा पार्षद दल ने की मुलाकात
  • News
  • खाद्य, नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण, आवास एवं पर्यावरण, परिवहन एवं वन विभाग के लिए 4469 करोड़ 54 लाख 45 हजार रूपए की अनुदान मांगें ध्वनि मत से पारित
  • आरटीआई कार्यकर्ता राजकुमार मिश्रा को प्रदेश के उच्च व निम्न न्यायिक अधिकारियों के विरुद्ध लंबित विभागीय जांच की जानकारी 30 दिनों के भीतर देने का आदेश
  • जशपुर के पर्यटन एवम पुरातात्विक स्थलों के बारे में प्रदेश में आवाज़ उठाई विधायक यूडी मिंज ने

सख्त हो सकते हैं आईसीसी के नियम, डेविड रिचर्डसन ने दिए बदलाव के संकेत

सख्त हो सकते हैं आईसीसी के नियम, डेविड रिचर्डसन ने दिए बदलाव के संकेत

बॉल टेम्परिंग विवाद के बाद आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड रिचर्डसन आचार संहिता में फिर से आकलन करने का फैसला किया है. रिचर्डसन का मानना है कि इस कड़ी में गंभीर उल्लघंन जैसे गेंद से छेड़छाड़ और स्लेजिंग संबंधित सजा में जल्द ही बदलाव किया सकता है.

नई दिल्ली: बॉल टेम्परिंग विवाद के बाद आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड रिचर्डसन आचार संहिता में फिर से आकलन करने का फैसला किया है. रिचर्डसन का मानना है कि इस कड़ी में गंभीर उल्लघंन जैसे गेंद से छेड़छाड़ और स्लेजिंग संबंधित सजा में जल्द ही बदलाव किया सकता है.

केपटाउन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट के दौरान गेंद से छेड़छाड़ करने के लिये ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर को एक साल के लिये बैन कर दिया गया जिससे विश्व क्रिकेट में हलचल मची हुई है. इस घटना में शामिल ओपनर बल्लेबाज कैमरन बैनक्रोफ्ट को नौ महीने के लिए बैन किया गया है.

इन तीनों ने सार्वजनिक रूप से माफी मांगी है जिसमें से स्मिथ बहुत निराश लग रहे थे क्योंकि उनकी छवि को काफी नुकसान पहुंचा है.

रिचर्डसन ने कहा, ‘‘ हां, मुझे पूरा भरोसा है कि काफी कम समय में हम अपनी आचार संहिता में संशोधन कर सकते हैं जिसे लागू करना आसान होगा और विशेष उल्ल्घंन में प्रतिबंध का स्तर निर्धारित करना आसान होगा. हम इसे काफी जल्दी कर सकते हैं.’’

साउथ अफ्रीका के इस पूर्व विकेटकीपर को हालांकि लगता है कि संशोधन थोड़े समय में किये जा सकते हैं लेकिन खिलाड़ियों के बीच‘ सम्मान की संस्कृति’ को लागू करने की जरूरत है और इसमें समय लगेगा.

उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे लगता है कि सम्मान की संस्कृति लागू करने में लंबा समय लगेगा. यह एक रात में नहीं हो सकता. इसलिए इसमें थोड़ा ज्यादा समय लगेगा. निश्चित रूप से इस संहिता में पूरा बदलाव नहीं होगा लेकिन इसमें स्पष्ट हो जायेगा कि जब हम गेंद से छेड़छाड़ की बात कर रहे हैं तो इसका क्या मतलब है और जब हम कह रहे हैं कि आप अभद्र भाषा का इस्तेमाल नहीं कर सकते तो इसका क्या मतलब है.’’

रिचर्डसन ने फिर उदाहरण पेश करते हुए कहा, ‘‘ हम कह सकते हैं कि देखिए अगर आपके पास कुछ अच्छा कहने के लिए नहीं है तो आप बिलकुल भी कुछ मत कहिये.’’

वह इस पूरे मुद्दे पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के रवैये से सहमत है जिसने आईसीसी को मौजूदा खिलाड़ी संहिता में सुधार की गुंजाइश देखने को प्रेरित किया.

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं जानता हूं कि क्रिकट ऑस्ट्रेलिया ने इस घटना को काफी व्यापक रूप से देखा है जबकि मैच अधिकारी एक विशेष मैच में गेंद से छेड़छाड़ की विशेष घटना को इतने व्यापक तौर पर नहीं देख पाये होंगे.’’

रिचर्डसन ने कहा, ‘‘ इस समय गेंद से छेड़छाड़ करना आईसीसी संहिता के अंतर्गत लेवल-2 का उल्लघंन है और इस मौजूदा संहिता में स्मिथ के अपराध का स्तर सबसे ऊंचा रहेगा जबकि बैनक्राफ्ट को निचले स्तर की सजा मिलेगी. मैं जानता हूं कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इसकी व्यापक तौर पर समीक्षा की है. यह उनके लिए बड़ा मुद्दा है.’’

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *