• मोदी कॉलेज में थे तब अपनी वाक् पटुता की वजह से लड़कियों को प्रिय थे..!!!
  • रायगढ़ लोकसभा के लिए कुमार देवेन्द्र प्रताप की दावेदारी प्रबल
  • आज होलिका दहन, बुराई पर अच्‍छाई की जीत का त्‍योहार होली
  • प्रेस लिखा रेस्टोरेंट मालिक का लक्ज़री कार अवैध शराब का परिवहन करते दूसरी बार पकड़ाया
  • ट्रेक्टर फायनेंस की राशि जमा करने आए शख्स को निजी बैंक के असिस्टेंट मैनेजर ने स्टाफ सहित मिलकर पीटा
  • चिरमिरी के राहुल भाई पटेल बने एनएसयुआई.के प्रदेश सचिव

एक सोच………..

एक सोच………..

भाईयो एक बात सोचने की है।
बड़े घरो में नौकर लगभग सभी रखते है।
उनमें से बहुत सारे घारो में बच्चे नौकर होते है।
यदि उन घरो के लोग उस नौकर बच्चे को काम के साथ- साथ स्कूल में पढ़ाए तो
एक भाई एक देश का नागरिक पढ़ जाएगा।
जो बहुत बड़ा ( धन ) आदमी है वो प्राइवेट स्कूल में भेज सकता है।
जो समान्य ( कम धन ) आदमी है वो सरकारी स्कूल में भेज सकता है।
सरकारी स्कूल में तो लगभग समान सरकार देती है।
आपके एक छोटे से कदम से एक बच्चा पढ़ सकेगा।
आपके उसी कदम से वो आगे बढ़ सकेगा।
इससे देश में भी पढ़े – लिखे लोगो की गिनती बढ़ेगी।
देश की पढ़े – लिखे बाहरी देशो में गिनती बढ़ेगी।
जब देश के बच्चे पढ़े
तभी हिन्दुस्तान आगे बढ़े

खुशहाल ( विकास ) कस्वां
सिरसा हरियाणा

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated