• सांसद नुसरत जंहा हिंदू रीति रिवाज से कपड़ा व्यवसायी निखिल जैन से की शादी
  • 13 वायुसैनिकों के पार्थिव शवों के अवशेष मिले..,एएन-32 विमान का लापता होने का मामला
  • गुजरात में RS चुनाव : दो सीटों पर अलग- अलग चुनाव के खिलाफ कांग्रेस की याचिका SC ने चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया
  • बिलाईगढ़ के कांग्रेस विधायक चंद्रदेव प्रसाद राय के लेटर हेड पर फर्जी हस्ताक्षर कर क्षेत्र के पंचायतो में करोड़ो रुपयो के काम स्वीकृत कराने के आरोप में 2 आरोपी गिरफ्तार..
  • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कल देश भर में विश्व योग दिवस मनाया जायेगा..
  • उसेंडी शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर नुक्ताचीनी करने के बजाय रमन सरकार का चरित्र देखें

एक सोच………..

एक सोच………..

भाईयो एक बात सोचने की है।
बड़े घरो में नौकर लगभग सभी रखते है।
उनमें से बहुत सारे घारो में बच्चे नौकर होते है।
यदि उन घरो के लोग उस नौकर बच्चे को काम के साथ- साथ स्कूल में पढ़ाए तो
एक भाई एक देश का नागरिक पढ़ जाएगा।
जो बहुत बड़ा ( धन ) आदमी है वो प्राइवेट स्कूल में भेज सकता है।
जो समान्य ( कम धन ) आदमी है वो सरकारी स्कूल में भेज सकता है।
सरकारी स्कूल में तो लगभग समान सरकार देती है।
आपके एक छोटे से कदम से एक बच्चा पढ़ सकेगा।
आपके उसी कदम से वो आगे बढ़ सकेगा।
इससे देश में भी पढ़े – लिखे लोगो की गिनती बढ़ेगी।
देश की पढ़े – लिखे बाहरी देशो में गिनती बढ़ेगी।
जब देश के बच्चे पढ़े
तभी हिन्दुस्तान आगे बढ़े

खुशहाल ( विकास ) कस्वां
सिरसा हरियाणा

About Aaj Ka Din

Leave a reply translated