• आदिवासी छात्राओं द्वारा रेंगकर मांगने वाली छात्रवृत्ति मामला : सरगुजा के जी.एन.एम. नर्सिंग प्रशिक्षणरत आदिवासी छात्राओं के लिए 51.20 लाख रूपए आबंटित
  • बेलगाँव में शराब दुकान का विरोध करते अमित जोगी गाँव की महिलाओं के साथ गिरफ़्तार; दुकान बंद करने के लिखित आदेश के बाद सबको निशर्त छोड़ा गया।
  • बारिश से पहले नाला व नालियों की हो सफाई – रोशनलाल
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का मेडिकल बुलेटिन जारी,स्थिति नाजुक-अगले 24 घंटे बेहद महत्वपूर्ण
  • मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का मेडिकल बुलेटिन-(24 जून समय-7:00 शाम)
  • कोरिया: दवाइयों से लैस दो चलित अस्पताल वाहनों को विधायक और कलेक्टर ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया..

परिवहन विभाग का एक ऐसा सैनिक जिसके प्रयास से सड़क दुर्घटना में घायलों एवं मृतकों के दरों में आई कमी,,,विस्तार से जानने के लिए पढ़े aajkadinnews.com*यातायात जागरूकता अभियान ने बचाई 22 की जान*

परिवहन विभाग का एक ऐसा सैनिक जिसके प्रयास से सड़क दुर्घटना में घायलों एवं मृतकों के दरों में आई कमी,,,विस्तार से जानने के लिए पढ़े aajkadinnews.com*यातायात जागरूकता अभियान ने बचाई 22 की जान*

संजय गुप्ता, मनेंद्रगढ़

*यातायात जागरूकता अभियान ने बचाई 22 की जान*

*सैनिक महेश मिश्रा ने स्वयं के खर्च पर वर्ष भर में लगाए 150 से अधिक कैंप*

जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के यातायात विभाग में पदस्थ सैनिक महेश मिश्रा द्वारा बीते वर्ष जिले भर में स्कूल/कॉलेज, एनएसएस/ स्काउट के छात्रों व आमजन को यातायात नियमों, संकेतों और चिन्हों की संपूर्ण जानकारी प्रदान करने व उनके यातायात संबंधी समस्या का समाधान करने का कार्य किया गया जिसके परिणाम स्वरूप वर्ष 2017 की तुलना में 2018 में सड़क दुर्घटना में 5% मृतक में 16% एवं घायलों की संख्या में 17% की कमी आई है।

जिले में यातायात के प्रति लोगों को जागरूक करने में एक ऐसा नाम जो आज हर किसी के जुबान पर है पेसे से सैनिक के पद पर पदस्थ महेश मिश्रा ने यातायात जागरूकता अभियान को समाज सेवा के रूप में अपनाया मगर अब यह उनके लिए जुनून बन चुका है जिसका परिणाम यह है कि जहां एक ओर सड़कों पर वाहनों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है उसके बावजूद भी सड़क दुर्घटनाओं में वर्ष 2017 की तुलना में वर्ष 2018 में कमी आना यातायात जागरूकता अभियान की सार्थकता को प्रदर्शित करता है जहां वर्ष 2017 में 373 सड़क दुर्घटनाओं में 137 लोगों की असामयिक मौतें एवं 406 लोग घायल हुए थे वहीं वर्ष 2018 में 351 सड़क दुर्घटनाओं में 115 मौतें व 336 लोग घायल हुए हैं।

श्री मिश्रा ने बताया कि सड़क दुर्घटना में और प्रभावी ढंग से रोक लगाने हेतु उनका लक्ष्य स्कूली शिक्षा पाठ्यक्रम में माध्यमिक, उच्च माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक स्तर पर एक पाठ यातायात का शामिल कराने का है जिससे कि छात्रों को पढ़ाई के साथ ही यातायात के नियमों,संकेतों एवं चिन्हों की पूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके व सड़क दुर्घटनाओं में रोक लग सके।

आज देश में असामयिक मौतों का सबसे प्रमुख कारण सड़क दुर्घटना है सड़क दुर्घटना में मौतों के मामले में सबसे अधिक युवा वर्ग के होते हैं इन मौतों को रोकने का सबसे अच्छा जरिया होगा कि छात्र जीवन से ही नियमों की पूर्ण जानकारी प्रदान कर दी जाए क्योंकि बहुत से ऐसे लोग हैं जो जानकारी के अभाव में दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं ,आज के युवा वर्ग में स्टाइलिश व महंगी गाड़ियों का शौक बहुत तेजी से बढ़ रहा है साथ ही चंद पलों की खुशी दिखावे व साथियों के साथ स्टंट करने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है जो की पूर्णत: जोखिम भरा होता है इन युवाओं को अगर नियमों के संपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी जाए तो निश्चित ही दुर्घटनाओं में कमी देखने को मिलेगी गौरतलब है कि श्री मिश्रा द्वारा पूरे वर्ष भर के दौरान लगभग 150 यातायात जागरूकता कैंप लगाकर लाखों लोगों को यातायात के प्रति जागरूक करने का कार्य पूरे तन मन धन के साथ किया गया इस नेक काम की चर्चा पूरे जिले में हो रही है एवं सभी इसकी सराहना कर रहे हैं साथ ही इस उल्लेखनीय कार्य के लिए कई अवसरों पर सम्मानित भी होते रहे हैं।

*वर्ष 2018 में घटित सड़क दुर्घटनाओं की थानावार जानकारी*-
क्रमांक थाना का नाम दुर्घटना मृतक घायल
01. बैकुंठपुर 61. 12. 48.
02. मनेंद्रगढ़ 50. 06. 51.
03. चिरमिरी 29. 06. 18.
04. खडगवाँ 42. 34. 26.
05. पोंड़ी 20. 08. 12.
06. पटना 45. 15. 65.
07. चरचा 27. 08. 12.
08. सोनहत 23. 06. 32.
09. केल्हारी 17. 04. 28.
10. जनकपुर 19. 07. 20.
11. कोटाडोल 10. 07. 10.
12. झगराखाँड 08. 02. 07

पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला के आदेशानुसार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक निवेदिता पाल शर्मा एवं उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय सोनिया उके के दिशा-निर्देश पर यातायात प्रभारी महेश्वर पैकरा के मार्गदर्शन में व सभी के सहयोग से पूरे वर्ष भर वाहन चालकों, छात्रों एवं आमजन को यातायात के प्रति जागरुक करने का कार्य किया गया, जिससे की दुर्घटनाओं में कमी आई व वर्ष 2017 की तुलना में 2018 में 22 लोगों की जान बचाई जा सकी यह अभियान आगे भी निरंतर जारी रहेगा जिससे कि सड़क दुर्घटनाओं में और कमी आ सके।

( यातायात सैनिक महेश मिश्रा)

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated