सरकार संविलियन के लिए वचनबद्ध है मिस गाइड करने वालों को मुंह तोड़ जवाब देंगे अभी पहली प्राथमिकता संविलियन,- शिव डड़सेना

सरकार संविलियन के लिए वचनबद्ध है मिस गाइड करने वालों को मुंह तोड़ जवाब देंगे अभी पहली प्राथमिकता संविलियन,- शिव डड़सेना

18 जून 2018 को पिछली सरकार द्वारा 8 वर्ष से कम सेवा वाले शिक्षको को संविलियन से वंचित कर दिया गया था।साथ ही फूडी कौड़ी भी वेतन नही बढ़ाया गया था। इस भेदभाव पूर्ण नीतियों के खिलाफ संविलयन से वंचित शिक्षक सरकार के सामने अपनी मांग रखे।लेकिन अनसुना कर दिया ।इससे नाराज होकर संविलियन से वंचित शिक्षकों ने विपक्षी दलों से मिलकर अपनी संविलियन मांगों को घोषणा पत्र में शामिल कराने में सफल हुए।1 जनवरी को सरकार ने संविलियन से वंचित शिक्षको को तोफा देते हुए संविलियन के लिए 1000 करोड़ का वित्तीय प्रावधान किया है इससे साबित होता है कि सरकार द्वारा 2 वर्ष पूर्ण कर चुके शिक्षको के संविलियन के लिए वचन बद्ध है।

लेकिन कुछ शिक्षक संगठन के नेता सरकार को उलझाने और मिसगाइड करने की कोशिश कर रहे है।ये वही लोग है जब 48 हजार शिक्षकों को जब संविलियन से वंचित कर दिए थे तब खुशियां मना रहे थे मिठाईया बांट रहे थे फूल हार माला पहन रहे थे। 48 हजार शिक्षको को संविलियन से वंचित करने के नीति बनाने वाले पिछली सरकार के नेताओं के लिए सम्मान समारोह आयोजित कर रहे थे।तो कुछ संगठन के नेता हमारी संविलियन से ज्यादा अपनी क्रमोन्नति को ज्यादा जरूरी बताकर सरकार को उलझाने की अथक प्रयास कर रहे है ।जब कि आज पहली प्राथमिकता हमारा संविलियन है जो घोषणा पत्र में उल्लेखित है

संविलियन संघर्ष समिति के प्रांतीय संयोजक शिव डड़सेना के ऐसी संविलियन विरोधी संघठन के नेताओ को चेताया है कि जब आप संविलियन दिला नही सके तो संविलियन के रास्ते अवरोध न बने।नही तो 48 हजार संविलियन से वंचित शिक्षको की ओर से मुहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

शिव डड़सेना ने ने बताया कि 48 हजार संविलियन वंचित शिक्षको को अब कोई न धोखा दे सकता है न ही कोई ठग सकता है क्योकि ऐसे धोखा देने वाले संगठन से निकल आ चुके है 48 हजार संविलियन वंचित शिक्षक अब एक संगठन के रूप में संगठित होकर अपनी लड़ाई खुद लड़ रहे है।संविलियन विरोधी लोगो को हमारी संविलियन रूप टॉनिक पी कर आराम करना चाहिए।

शिव डड़सेना ने बताया है कि हमारी संविलियन की प्रक्रिया अतिशीघ् प्रारभं हो इसके लिए विभाग के कैबिनेट मंत्रियों और विभागीय सचिवो से मुलाखत करेंगे।

About VIDYANAND THAKUR

Leave a reply translated

Your email address will not be published. Required fields are marked *