• रायगढ़ विधानसभा कार्यकर्ता सम्मेलन 25 को होगी
  • रायपुर । 23 मार्च: इस देश में सारी विचारधाराओं को आज़माया जा चुका है. अब समय भगत सिंह और डॉ अंबेडकर के विचारों को आज़माने का है. ये विचार हैं वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के.
  • बलोदा बाजार की गिधौरी बस स्टैंड के पास चलती ट्रक में लगी आग
  • यूपी से आये फ़ाग गायकों के गीत पर विधायक डॉ. विनय ने समर्थकों के साथ मनाई होली
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा किये गए अभूतपूर्व विकास कार्य को लेकर जनता के बीच जाएगी भाजपा
  • नशे में धुत युवक करना चाह रहे थे घिनौना काम,विफल होने पर दिए ऐसे घटना को अंजाम की जानकार सबकी रूहें कांप जायेगी,विस्तार से जानने के लिए पढ़ें-आज का दिन

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी


नई दिल्ली – दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी किया है। तिहाड़ जेल अधिकारियों से उसे कल कोर्ट के समक्ष पेश करने के लिए कहा गया है।


बता दें कि मिशेल की रिमांड बुधवार को खत्म हो चुकी है। सीबीआई, मिशेल से पूछताछ कर हेलीकॉप्टर सौदे में श्टॉप लीडर्सश् का नाम, जो कोड वर्ड में लिखा था, वह नहीं उगलवा सकी। रिमांड के दौरान जांच एजेंसी ने मिशेल के सामने चार-पांच ऐसे दस्तावेज रखे, जिनमें कोड वर्ड के हिसाब से लोगों के नाम लिखे गए थे। इसके अलावा कुछ ऐसे दस्तावेज, जिन पर मिशेल के अलावा कुछ अन्य लोगों के हस्ताक्षर थे, उसने उन्हें भी पहचानने से इंकार कर दिया था।

सूत्रों ने बताया था कि तीन देशों से जांच एजेंसी ने अगस्ता वेस्टलैंड डील को लेकर जो सीक्रेट दस्तावेज हासिल किए थे, उन पर भी मिशेल ने चुप्पी साधे रखी है। सूत्रों ने बताया था कि मिशेल के सामने कंपनी या उसके पदाधिकारियों से जुड़ी कई फाइलें रखी गई थी। पूछताछ के दौरान उसने कभी तीस मिनट से ज्यादा समय तक किसी फाइल को नहीं देखा। मिशेल के वकील के मुताबिक, वह डिस्लेक्सिया की बीमारी से ग्रसित हैं, इसलिए लंबे समय तक वह दस्तावेजों को नहीं देख सकता है। डिस्लेक्सिया की बीमारी में व्यक्ति को पढऩे और शब्दों व चिह्नों की व्याख्या करने में दिक्कत आती है। मिशेल ने कोडवर्ड वाले दस्तावेज में से किसी टॉप लीडर्स को नहीं पहचाना था। हालांकि जांच एजेंसी ने कोडवर्ड के सामने कई नेताओं के नाम लिखकर उसे दिखाए, लेकिन उसने पहचानने से मना कर दिया था।

हालांकि मिशेल ने एयरफोर्स के अधिकारियों के नाम, मंत्रालय के अफसर और अपने कई सहयोगियों (राल्फ गिडो हैस्के और कार्लो गेरोसा) के दस्तावेजों को पहचाना था। वह इन लोगों के हस्ताक्षर भी ध्यान से देखता था।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated

Newsletter