• आदिवासी छात्राओं द्वारा रेंगकर मांगने वाली छात्रवृत्ति मामला : सरगुजा के जी.एन.एम. नर्सिंग प्रशिक्षणरत आदिवासी छात्राओं के लिए 51.20 लाख रूपए आबंटित
  • बेलगाँव में शराब दुकान का विरोध करते अमित जोगी गाँव की महिलाओं के साथ गिरफ़्तार; दुकान बंद करने के लिखित आदेश के बाद सबको निशर्त छोड़ा गया।
  • बारिश से पहले नाला व नालियों की हो सफाई – रोशनलाल
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का मेडिकल बुलेटिन जारी,स्थिति नाजुक-अगले 24 घंटे बेहद महत्वपूर्ण
  • मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की माता श्रीमती बिंदेश्वरी बघेल का मेडिकल बुलेटिन-(24 जून समय-7:00 शाम)
  • कोरिया: दवाइयों से लैस दो चलित अस्पताल वाहनों को विधायक और कलेक्टर ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया..

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी


नई दिल्ली – दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी किया है। तिहाड़ जेल अधिकारियों से उसे कल कोर्ट के समक्ष पेश करने के लिए कहा गया है।


बता दें कि मिशेल की रिमांड बुधवार को खत्म हो चुकी है। सीबीआई, मिशेल से पूछताछ कर हेलीकॉप्टर सौदे में श्टॉप लीडर्सश् का नाम, जो कोड वर्ड में लिखा था, वह नहीं उगलवा सकी। रिमांड के दौरान जांच एजेंसी ने मिशेल के सामने चार-पांच ऐसे दस्तावेज रखे, जिनमें कोड वर्ड के हिसाब से लोगों के नाम लिखे गए थे। इसके अलावा कुछ ऐसे दस्तावेज, जिन पर मिशेल के अलावा कुछ अन्य लोगों के हस्ताक्षर थे, उसने उन्हें भी पहचानने से इंकार कर दिया था।

सूत्रों ने बताया था कि तीन देशों से जांच एजेंसी ने अगस्ता वेस्टलैंड डील को लेकर जो सीक्रेट दस्तावेज हासिल किए थे, उन पर भी मिशेल ने चुप्पी साधे रखी है। सूत्रों ने बताया था कि मिशेल के सामने कंपनी या उसके पदाधिकारियों से जुड़ी कई फाइलें रखी गई थी। पूछताछ के दौरान उसने कभी तीस मिनट से ज्यादा समय तक किसी फाइल को नहीं देखा। मिशेल के वकील के मुताबिक, वह डिस्लेक्सिया की बीमारी से ग्रसित हैं, इसलिए लंबे समय तक वह दस्तावेजों को नहीं देख सकता है। डिस्लेक्सिया की बीमारी में व्यक्ति को पढऩे और शब्दों व चिह्नों की व्याख्या करने में दिक्कत आती है। मिशेल ने कोडवर्ड वाले दस्तावेज में से किसी टॉप लीडर्स को नहीं पहचाना था। हालांकि जांच एजेंसी ने कोडवर्ड के सामने कई नेताओं के नाम लिखकर उसे दिखाए, लेकिन उसने पहचानने से मना कर दिया था।

हालांकि मिशेल ने एयरफोर्स के अधिकारियों के नाम, मंत्रालय के अफसर और अपने कई सहयोगियों (राल्फ गिडो हैस्के और कार्लो गेरोसा) के दस्तावेजों को पहचाना था। वह इन लोगों के हस्ताक्षर भी ध्यान से देखता था।

About Prashant Sahay

Leave a reply translated